Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Feb 2024 · 1 min read

* धीरे धीरे *

** गीतिका **
~~
धीरे धीरे खोल दीजिए, बंद पड़ी अलमारी को।
रहें सुरक्षित सारी चीजें, पूर्ण करें तैयारी को।

लेकिन मन में राज हमेशा, कहां सुरक्षित रह पाते।
कहां रखें ताले चाबी में, जीवन की लाचारी को।

बूढ़े कंधों पर भी देखो, बोझ बढा है कर्जों का।
कौन चुकाएगा अब कैसे, बढ़ती नित्य उधारी को।

दायित्वों का बोझ बहुत है, कम होने का नाम नहीं।
फिर भी देखो सहन कर रहा, अपनी हर बीमारी को।

कैसे कैसे निभ पाएगी, हर मुश्किल आसान नहीं।
बड़े शौक से देख रहा है, बढती दुनियादारी को।

कदम मिलाकर इस जीवन में, हर पल अपने साथ चले।
किन्तु कभी भुला नहीं पाते, सूरत प्यारी प्यारी को।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य

1 Like · 1 Comment · 61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
तेरी हुसन ए कशिश  हमें जीने नहीं देती ,
तेरी हुसन ए कशिश हमें जीने नहीं देती ,
Umender kumar
2834. *पूर्णिका*
2834. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कहा किसी ने
कहा किसी ने
Surinder blackpen
क्या जानते हो ----कुछ नही ❤️
क्या जानते हो ----कुछ नही ❤️
Rohit yadav
*सेब (बाल कविता)*
*सेब (बाल कविता)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जब भी सोचता हूं, कि मै ने‌ उसे समझ लिया है तब तब वह मुझे एहस
जब भी सोचता हूं, कि मै ने‌ उसे समझ लिया है तब तब वह मुझे एहस
पूर्वार्थ
श्रम करो! रुकना नहीं है।
श्रम करो! रुकना नहीं है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
* चाह भीगने की *
* चाह भीगने की *
surenderpal vaidya
।। जीवन प्रयोग मात्र ।।
।। जीवन प्रयोग मात्र ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मां की दूध पीये हो तुम भी, तो लगा दो अपने औलादों को घाटी पर।
मां की दूध पीये हो तुम भी, तो लगा दो अपने औलादों को घाटी पर।
Anand Kumar
कुछ बेशकीमती छूट गया हैं तुम्हारा, वो तुम्हें लौटाना चाहता हूँ !
कुछ बेशकीमती छूट गया हैं तुम्हारा, वो तुम्हें लौटाना चाहता हूँ !
The_dk_poetry
❤️एक अबोध बालक ❤️
❤️एक अबोध बालक ❤️
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन
आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन
Raju Gajbhiye
आज का नेता
आज का नेता
Shyam Sundar Subramanian
रामेश्वरम लिंग स्थापना।
रामेश्वरम लिंग स्थापना।
Acharya Rama Nand Mandal
लोगों की फितरत का क्या कहें जनाब यहां तो,
लोगों की फितरत का क्या कहें जनाब यहां तो,
Yogendra Chaturwedi
*चुन मुन पर अत्याचार*
*चुन मुन पर अत्याचार*
Nishant prakhar
अबके रंग लगाना है
अबके रंग लगाना है
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
आज़माइश
आज़माइश
Dr. Seema Varma
एक प्रयास अपने लिए भी
एक प्रयास अपने लिए भी
Dr fauzia Naseem shad
होली है ....
होली है ....
Kshma Urmila
मेहनत करने की क्षमता के साथ आदमी में अगर धैर्य और विवेक भी ह
मेहनत करने की क्षमता के साथ आदमी में अगर धैर्य और विवेक भी ह
Paras Nath Jha
❤बिना मतलब के जो बात करते है
❤बिना मतलब के जो बात करते है
Satyaveer vaishnav
"उन्हें भी हक़ है जीने का"
Dr. Kishan tandon kranti
विषय सूची
विषय सूची
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
अधखिली यह कली
अधखिली यह कली
gurudeenverma198
पहले भागने देना
पहले भागने देना
*Author प्रणय प्रभात*
जन्नत का हरेक रास्ता, तेरा ही पता है
जन्नत का हरेक रास्ता, तेरा ही पता है
Dr. Rashmi Jha
Loading...