Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Nov 2023 · 1 min read

****** धनतेरस लक्ष्मी का उपहार ******

****** धनतेरस लक्ष्मी का उपहार ******
**********************************

धनतेरस पर्व आ गया,धन का ले उपहार।
घर – घर धन बरखा हुई,लक्ष्मी का त्योहार।।

लोक तिजोरी पूजते,सोना रजत चढ़ाय।
सुख समृद्धि हैँ मांगते,मोदक भोग लगाय।।

झालर दीपक की जले,जग-मग हो दीवार।
रोशन हर घर दीप से ,दूर तमस आपार।।

धूम धाम से हैँ सजे,निलय गली बाजार।
कपड़े बरतन ले रहे, ख्वाब हुए साकार।।

मनसीरत माटी मिले , मोह माया ख़ुमार।
नूर विदुषण तम हरे,मुख पर आया निखार।।
**********************************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेडी राओ वाली (कैथल)

154 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक पल में ये अशोक बन जाता है
एक पल में ये अशोक बन जाता है
ruby kumari
बाल गीत
बाल गीत "लंबू चाचा आये हैं"
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
शब्दों की रखवाली है
शब्दों की रखवाली है
Suryakant Dwivedi
तुम्हारी यादें
तुम्हारी यादें
अजहर अली (An Explorer of Life)
आज जिंदगी को प्रपोज़ किया और कहा -
आज जिंदगी को प्रपोज़ किया और कहा -
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"वो अहसास"
Dr. Kishan tandon kranti
संकल्प
संकल्प
Dr. Pradeep Kumar Sharma
स्मृति-बिम्ब उभरे नयन में....
स्मृति-बिम्ब उभरे नयन में....
डॉ.सीमा अग्रवाल
// अमर शहीद चन्द्रशेखर आज़ाद //
// अमर शहीद चन्द्रशेखर आज़ाद //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शिव स्तुति महत्व
शिव स्तुति महत्व
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
बाकी सब कुछ चंगा बा
बाकी सब कुछ चंगा बा
Shekhar Chandra Mitra
वेलेंटाइन एक ऐसा दिन है जिसका सबके ऊपर एक सकारात्मक प्रभाव प
वेलेंटाइन एक ऐसा दिन है जिसका सबके ऊपर एक सकारात्मक प्रभाव प
Rj Anand Prajapati
पर्यावरण
पर्यावरण
Manu Vashistha
जो बालक मातृभाषा को  सही से सीख  लेते हैं ! वही अपने समाजों
जो बालक मातृभाषा को सही से सीख लेते हैं ! वही अपने समाजों
DrLakshman Jha Parimal
बुरा ख्वाबों में भी जिसके लिए सोचा नहीं हमने
बुरा ख्वाबों में भी जिसके लिए सोचा नहीं हमने
Shweta Soni
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
SHASHANK TRIVEDI
गाँव से चलकर पैदल आ जाना,
गाँव से चलकर पैदल आ जाना,
Anand Kumar
इतना क्यों व्यस्त हो तुम
इतना क्यों व्यस्त हो तुम
Shiv kumar Barman
शोहरत
शोहरत
Neeraj Agarwal
दर्द ना अश्कों का है ना ही किसी घाव का है.!
दर्द ना अश्कों का है ना ही किसी घाव का है.!
शेखर सिंह
मैं तो महज आग हूँ
मैं तो महज आग हूँ
VINOD CHAUHAN
डॉ अरुण कुमार शास्त्री 👌💐👌
डॉ अरुण कुमार शास्त्री 👌💐👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धीरे _धीरे ही सही _ गर्मी बीत रही है ।
धीरे _धीरे ही सही _ गर्मी बीत रही है ।
Rajesh vyas
ये आँधियाँ हालातों की, क्या इस बार जीत पायेगी ।
ये आँधियाँ हालातों की, क्या इस बार जीत पायेगी ।
Manisha Manjari
7. *मातृ-दिवस * स्व. माँ को समर्पित
7. *मातृ-दिवस * स्व. माँ को समर्पित
Dr Shweta sood
ज़िंदगी क्या है ?
ज़िंदगी क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
मेरे देश की मिट्टी
मेरे देश की मिट्टी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मंजिल
मंजिल
Kanchan Khanna
"आधुनिक नारी"
Ekta chitrangini
3336.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3336.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Loading...