Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 2 min read

दो दोस्तों की कहानि

अमित और रोहित दो अच्छे दोस्त थे जो अपने बचपन के दिनों से साथ खेलते थे। वे एक दूसरे के जैसे थे, जो हमेशा एक दूसरे का साथ निभाते थे। एक दिन वे दोनों एक साथ घूमने गए। रास्ते में उन्होंने एक अजीब सी जगह देखी जहां एक पुरानी कुएं के आसपास जंगल था। अमित को उस जगह में कुछ अजीब सा महसूस हो रहा था, लेकिन रोहित ने उसे इस बारे में चिंता करने से रोक दिया और उन्होंने वहां से निकलने का फैसला किया।

अगले दिन से, अमित को नींद नहीं आ रही थी। उसे उस अजीब स्थान के बारे में बार-बार सपने आने लगे। उसे लगता था कि उस स्थान पर कुछ बुरा होने वाला है, लेकिन वह रोहित को इस बारे में बताने से डर रहा था।

एक दिन, अमित को उस स्थान के बारे में एक खबर मिली। उस स्थान में एक लाश मिली थी जिसे अभी तक पहचान नहीं पाई गई थी। अमित को बहुत डर लग रहा था कि वह अपनी अंतिम खबर से जुड़ा हुआ है। उसने रोहित को फोन करके अपनी चिंता बताई लेकिन रोहित ने उसे समझाया कि वह फिक्र न करे और बस घबराता हुआ सोचना बंद करे।

अमित को फिर से वह स्थान देखने की इच्छा हुई। वह रोहित के साथ फिर से उस जगह पर गया। जैसे ही वे वहां पहुँचे, वह एक खौफनाक दृश्य देखा। वहां कुछ लोग थे जो उन्हें देखकर लुके हुए थे।

जब अमित उनसे पूछा कि क्या हुआ है, तब उन्होंने उन्हें बताया कि एक व्यक्ति ने यहां एक बहुत बड़ी चोरी की है और वे सब यहां उस चोर को ढूंढने आए हैं।

अमित को समझ में आया कि वह अपनी चिंता से बेकार थी और उसका स्नेह सच्चा था। वह अपने दोस्त रोहित के बारे में सोचता था कि उसने उसकी चिंता को ठीक करने में मदद की थी।

उस दिन से अमित का सच्चा स्नेह और दोस्ती का महत्व समझ में आ गया |वह रोहित के पास गया और उससे माफी मांगने लगा कि उसने उसकी चिंता को अस्थायी रूप से दूर कर दिया था। रोहित ने उसे गले लगाया और कहा कि दोस्ती में कोई गलती नहीं होती, उसने अपने दोस्त की चिंता करने में सही किया था।

अमित और रोहित अपनी दोस्ती का महत्व समझ गए और वे अब दोनों एक दूसरे के लिए हमेशा उपलब्ध थे। उनकी दोस्ती अब और भी मजबूत हो गई थी।

इस घटना से अमित ने सीखा कि दोस्तों का साथ हमेशा जरूरी होता है। जितना समय हम दोस्तों के साथ बिताते हैं, उतना ही उनसे सीखते हैं और उन्हें अपने जीवन का हिस्सा बनाते हैं।

3 Likes · 292 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sidhartha Mishra
View all
You may also like:
*दो तरह के कुत्ते (हास्य-व्यंग्य)*
*दो तरह के कुत्ते (हास्य-व्यंग्य)*
Ravi Prakash
Two scarred souls and the seashore, was it a glorious beginning?
Two scarred souls and the seashore, was it a glorious beginning?
Manisha Manjari
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
जिस समाज में आप पैदा हुए उस समाज ने आपको कितनी स्वंत्रता दी
जिस समाज में आप पैदा हुए उस समाज ने आपको कितनी स्वंत्रता दी
Utkarsh Dubey “Kokil”
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
न्याय के लिए
न्याय के लिए
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
Dr Archana Gupta
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"दुनिया को पहचानो"
Dr. Kishan tandon kranti
कभी जिस पर मेरी सारी पतंगें ही लटकती थी
कभी जिस पर मेरी सारी पतंगें ही लटकती थी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बिगड़ी किश्मत बन गयी मेरी,
बिगड़ी किश्मत बन गयी मेरी,
Satish Srijan
सैनिक
सैनिक
Mamta Rani
"We are a generation where alcohol is turned into cold drink
पूर्वार्थ
Life is a rain
Life is a rain
Ankita Patel
*मां तुम्हारे चरणों में जन्नत है*
*मां तुम्हारे चरणों में जन्नत है*
Krishna Manshi
कविता
कविता
Rambali Mishra
संवेदना...2
संवेदना...2
Neeraj Agarwal
"आओ हम सब मिल कर गाएँ भारत माँ के गान"
Lohit Tamta
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
शायर देव मेहरानियां
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
Anand Kumar
हाथ में कलम और मन में ख्याल
हाथ में कलम और मन में ख्याल
Sonu sugandh
अन्धी दौड़
अन्धी दौड़
Shivkumar Bilagrami
नया साल
नया साल
'अशांत' शेखर
Jeevan ke is chor pr, shanshon ke jor pr
Jeevan ke is chor pr, shanshon ke jor pr
Anu dubey
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
Neelam Sharma
किया आप Tea लवर हो?
किया आप Tea लवर हो?
Urmil Suman(श्री)
3231.*पूर्णिका*
3231.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खुद के प्रति प्रतिबद्धता
खुद के प्रति प्रतिबद्धता
लक्ष्मी सिंह
अगले 72 घण्टों के दौरान
अगले 72 घण्टों के दौरान
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...