Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jan 2023 · 1 min read

दो कदम साथ चलो

हमसफर तुमको बना लूँ ग़र दो कदम साथ चलो
अपनी पलकों पे बिठा लूँ ग़र दो कदम साथ चलो
हमसफर तुमको बना लूँ……………….
मुश्किल सफर ये जिंदगी का यूँ आसान हो जाए
तुमको मैं हमदम बना लूँ ग़र दो कदम साथ चलो
हमसफर तुमको बना लूँ………………..
यूँ ही अकेले चलने से कोई सफर कटता ही नहीं
तुमको सीने से लगा लूँ ग़र दो कदम साथ चलो
हमसफर तुमको बना लूँ………………..
आकर मेरी जिंदगी में हमराज जो बन जाओ मेरे
तुमको आँखों में छुपा लूँ ग़र दो कदम साथ चलो
हमसफर तुमको बना लूँ…………………
‘विनोद’ तुम हो जान मेरी तुमसे ही तो है जिंदगी
अपनी सांसों में बसा लूँ ग़र दो कदम साथ चलो
हमसफर तुमको बना लूँ…………………

स्वरचित
( V9द चौहान )

2 Likes · 441 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
ਕਦਮਾਂ ਦੇ ਨਿਸ਼ਾਨ
ਕਦਮਾਂ ਦੇ ਨਿਸ਼ਾਨ
Surinder blackpen
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
शब्द : दो
शब्द : दो
abhishek rajak
असफलता का घोर अन्धकार,
असफलता का घोर अन्धकार,
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
हुनर मौहब्बत के जिंदगी को सीखा गया कोई।
हुनर मौहब्बत के जिंदगी को सीखा गया कोई।
Phool gufran
चल‌ मनवा चलें....!!!
चल‌ मनवा चलें....!!!
Kanchan Khanna
मैं तुम्हें यूँ ही
मैं तुम्हें यूँ ही
हिमांशु Kulshrestha
दिल तो ठहरा बावरा, क्या जाने परिणाम।
दिल तो ठहरा बावरा, क्या जाने परिणाम।
Suryakant Dwivedi
3053.*पूर्णिका*
3053.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
योग क्या है.?
योग क्या है.?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
इन आँखों ने उनसे चाहत की ख़्वाहिश की है,
इन आँखों ने उनसे चाहत की ख़्वाहिश की है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
पेट भरता नहीं
पेट भरता नहीं
Dr fauzia Naseem shad
काश तुम मेरे पास होते
काश तुम मेरे पास होते
Neeraj Mishra " नीर "
- एक दिन उनको मेरा प्यार जरूर याद आएगा -
- एक दिन उनको मेरा प्यार जरूर याद आएगा -
bharat gehlot
#5_सबक
#5_सबक
पूर्वार्थ
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
Santosh Shrivastava
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चलो चलें बौद्ध धम्म में।
चलो चलें बौद्ध धम्म में।
Buddha Prakash
■ लोकतंत्र की जय।
■ लोकतंत्र की जय।
*प्रणय प्रभात*
बस यूँ ही
बस यूँ ही
Neelam Sharma
कली से खिल कर जब गुलाब हुआ
कली से खिल कर जब गुलाब हुआ
नेताम आर सी
"सच की सूरत"
Dr. Kishan tandon kranti
बहुत याद आता है
बहुत याद आता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
Shyam Sundar Subramanian
सकारात्मक ऊर्जा से लबरेज
सकारात्मक ऊर्जा से लबरेज
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सत्ता परिवर्तन
सत्ता परिवर्तन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बादल
बादल
लक्ष्मी सिंह
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
SATPAL CHAUHAN
Loading...