Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Sep 2016 · 1 min read

दोहे

पसंद अपनी अपनी
दोहा विधा में एक प्रयास समीक्षारथ:

अँधियारे में हैं फँसे , सारे हम इंसान
सूरज अपने ज्ञान का, चमका दो भगवान.

पाँच विकारों से घिरे , कैसे जायें छूट
पल पल जो तड़पा रहे , खूब हुई है फूट।

रहें खुशी में झूमते , करते प्रभु को याद
बन जाते हैं काम सब, करें नहीं फ़रियाद।
सदगति सागर ज्ञान का, तुम ही हो प्रभु राम

ज्ञान सागर सदगति दाता, एक बाप ही राम
सुलझायो आकर सभी, बिगड़ गये जो काम।

पालनकर्ता हैं वही, हमें मिलें जो राम
पूर्ण करें सब कर्म तो, मिलता है आराम।
सूक्षम लता महाजन

Language: Hindi
513 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुझे वो एक शख्स चाहिये ओर उसके अलावा मुझे ओर किसी का होना भी
मुझे वो एक शख्स चाहिये ओर उसके अलावा मुझे ओर किसी का होना भी
yuvraj gautam
जिंदगी बंद दरवाजा की तरह है
जिंदगी बंद दरवाजा की तरह है
Harminder Kaur
*जन्मदिवस पर केक ( बाल कविता )*
*जन्मदिवस पर केक ( बाल कविता )*
Ravi Prakash
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Suryakant Dwivedi
जुगनू की छांव में इश्क़ का ख़ुमार होता है
जुगनू की छांव में इश्क़ का ख़ुमार होता है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
चलो बनाएं
चलो बनाएं
Sûrëkhâ
आंसुओं के समंदर
आंसुओं के समंदर
अरशद रसूल बदायूंनी
You lived through it, you learned from it, now it's time to
You lived through it, you learned from it, now it's time to
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
नेता
नेता
surenderpal vaidya
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
प्रदीप छंद
प्रदीप छंद
Seema Garg
मास्टरजी ज्ञानों का दाता
मास्टरजी ज्ञानों का दाता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2402.पूर्णिका
2402.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
किसी की छोटी-छोटी बातों को भी,
किसी की छोटी-छोटी बातों को भी,
नेताम आर सी
इंसानियत
इंसानियत
साहित्य गौरव
अंजान बनकर चल दिए
अंजान बनकर चल दिए
VINOD CHAUHAN
चोर कौन
चोर कौन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Dard-e-Madhushala
Dard-e-Madhushala
Tushar Jagawat
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हर लम्हा
हर लम्हा
Dr fauzia Naseem shad
बादलों की उदासी
बादलों की उदासी
Shweta Soni
वक्त थमा नहीं, तुम कैसे थम गई,
वक्त थमा नहीं, तुम कैसे थम गई,
लक्ष्मी सिंह
मैं तुम्हारे बारे में नहीं सोचूँ,
मैं तुम्हारे बारे में नहीं सोचूँ,
Sukoon
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*प्रणय प्रभात*
चलो रे काका वोट देने
चलो रे काका वोट देने
gurudeenverma198
करे ज़ुदा बातें हरपल जो, मानव वो दीवाना है।
करे ज़ुदा बातें हरपल जो, मानव वो दीवाना है।
आर.एस. 'प्रीतम'
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
निराशा एक आशा
निराशा एक आशा
डॉ. शिव लहरी
मां सिद्धिदात्री
मां सिद्धिदात्री
Mukesh Kumar Sonkar
"काल-कोठरी"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...