Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2024 · 1 min read

दोहा

दोहा
खार सरीखी हो गई,मानव की तासीर।
इसीलिए संसार में,नफरत,हिंसा, पीर।।
डाॅ बिपिन पाण्डेय

74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज हम याद करते
आज हम याद करते
अनिल अहिरवार
*कागभुशुंडी जी (कुंडलिया)*
*कागभुशुंडी जी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जल धारा में चलते चलते,
जल धारा में चलते चलते,
Satish Srijan
हास्य-व्यंग्य सम्राट परसाई
हास्य-व्यंग्य सम्राट परसाई
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरी सरलता की सीमा कोई नहीं जान पाता
मेरी सरलता की सीमा कोई नहीं जान पाता
Pramila sultan
सुख दुःख
सुख दुःख
जगदीश लववंशी
Kabhi kabhi hum
Kabhi kabhi hum
Sakshi Tripathi
ए'लान - ए - जंग
ए'लान - ए - जंग
Shyam Sundar Subramanian
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
गये ज़माने की यादें
गये ज़माने की यादें
Shaily
दिल जीत लेगी
दिल जीत लेगी
Dr fauzia Naseem shad
परी
परी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अंतराष्टीय मजदूर दिवस
अंतराष्टीय मजदूर दिवस
Ram Krishan Rastogi
अनुभव
अनुभव
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुक्तक
मुक्तक
डॉक्टर रागिनी
आंखों में ख़्वाब है न कोई दास्ताँ है अब
आंखों में ख़्वाब है न कोई दास्ताँ है अब
Sarfaraz Ahmed Aasee
योग न ऐसो कर्म हमारा
योग न ऐसो कर्म हमारा
Dr.Pratibha Prakash
चोंच से सहला रहे हैं जो परों को
चोंच से सहला रहे हैं जो परों को
Shivkumar Bilagrami
"बन्धन"
Dr. Kishan tandon kranti
मंदिर नहीं, अस्पताल चाहिए
मंदिर नहीं, अस्पताल चाहिए
Shekhar Chandra Mitra
** पहचान से पहले **
** पहचान से पहले **
surenderpal vaidya
करता नहीं हूँ फिक्र मैं, ऐसा हुआ तो क्या होगा
करता नहीं हूँ फिक्र मैं, ऐसा हुआ तो क्या होगा
gurudeenverma198
राजाधिराज महाकाल......
राजाधिराज महाकाल......
Kavita Chouhan
खिलाड़ी
खिलाड़ी
महेश कुमार (हरियाणवी)
ग़ज़ल/नज़्म - उसकी तो बस आदत थी मुस्कुरा कर नज़र झुकाने की
ग़ज़ल/नज़्म - उसकी तो बस आदत थी मुस्कुरा कर नज़र झुकाने की
अनिल कुमार
एक बेहतर जिंदगी का ख्वाब लिए जी रहे हैं सब
एक बेहतर जिंदगी का ख्वाब लिए जी रहे हैं सब
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दोहे- साँप
दोहे- साँप
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कविता
कविता
Shyam Pandey
😢सीधी-सीख😢
😢सीधी-सीख😢
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...