Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Nov 2023 · 1 min read

दोहा

दोहा
शुभमन रोहित कोहली, सामी सा नही और।
आ कंगारू होश में, बदल गया है दौर।।
©दुष्यंत ‘बाबा’

189 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"दो नावों पर"
Dr. Kishan tandon kranti
जिनके नौ बच्चे हुए, दसवाँ है तैयार(कुंडलिया )
जिनके नौ बच्चे हुए, दसवाँ है तैयार(कुंडलिया )
Ravi Prakash
सत्य कर्म की सीढ़ी चढ़कर,बिना किसी को कष्ट दिए जो सफलता प्रा
सत्य कर्म की सीढ़ी चढ़कर,बिना किसी को कष्ट दिए जो सफलता प्रा
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
3135.*पूर्णिका*
3135.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पुरुषो को प्रेम के मायावी जाल में फसाकर , उनकी कमौतेजन्न बढ़
पुरुषो को प्रेम के मायावी जाल में फसाकर , उनकी कमौतेजन्न बढ़
पूर्वार्थ
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
तुम जो आसमान से
तुम जो आसमान से
SHAMA PARVEEN
बहुत असमंजस में हूँ मैं
बहुत असमंजस में हूँ मैं
gurudeenverma198
आदर्श
आदर्श
Bodhisatva kastooriya
शादी
शादी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
चोर उचक्के सभी मिल गए नीव लोकतंत्र की हिलाने को
चोर उचक्के सभी मिल गए नीव लोकतंत्र की हिलाने को
Er. Sanjay Shrivastava
"कैसे सबको खाऊँ"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
चन्द्र की सतह पर उतरा चन्द्रयान
चन्द्र की सतह पर उतरा चन्द्रयान
नूरफातिमा खातून नूरी
आज़ाद हूं मैं
आज़ाद हूं मैं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
बावजूद टिमकती रोशनी, यूं ही नहीं अंधेरा करते हैं।
बावजूद टिमकती रोशनी, यूं ही नहीं अंधेरा करते हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
बरखा रानी
बरखा रानी
लक्ष्मी सिंह
पुस्तक समीक्षा- धूप के कतरे (ग़ज़ल संग्रह डॉ घनश्याम परिश्रमी नेपाल)
पुस्तक समीक्षा- धूप के कतरे (ग़ज़ल संग्रह डॉ घनश्याम परिश्रमी नेपाल)
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हमसाया
हमसाया
Manisha Manjari
ओ गौरैया,बाल गीत
ओ गौरैया,बाल गीत
Mohan Pandey
मौन सभी
मौन सभी
sushil sarna
चिन्ता और चिता मे अंतर
चिन्ता और चिता मे अंतर
Ram Krishan Rastogi
आलोचना
आलोचना
Shekhar Chandra Mitra
तुम
तुम
Punam Pande
💐प्रेम कौतुक-314💐
💐प्रेम कौतुक-314💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
Shutisha Rajput
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
हाथ में फूल गुलाबों के हीं सच्चे लगते हैं
हाथ में फूल गुलाबों के हीं सच्चे लगते हैं
Shweta Soni
जिंदगी में संतुलन खुद की कमियों को समझने से बना रहता है,
जिंदगी में संतुलन खुद की कमियों को समझने से बना रहता है,
Seema gupta,Alwar
रक्त संबंध
रक्त संबंध
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*
*"माँ"*
Shashi kala vyas
Loading...