Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2023 · 1 min read

दोहा

दोहा
तुमको है शुभकामना, विक्रम पुत्र प्रज्ञान।
चंदा मामा चूमकर, जग को देना ज्ञान।।
©दुष्यन्त ‘बाबा’

113 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम्हारी खुशी में मेरी दुनिया बसती है
तुम्हारी खुशी में मेरी दुनिया बसती है
Awneesh kumar
" आज़ का आदमी "
Chunnu Lal Gupta
आजकल गरीबखाने की आदतें अमीर हो गईं हैं
आजकल गरीबखाने की आदतें अमीर हो गईं हैं
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
ਦਿਲ  ਦੇ ਦਰਵਾਜੇ ਤੇ ਫਿਰ  ਦੇ ਰਿਹਾ ਦਸਤਕ ਕੋਈ ।
ਦਿਲ ਦੇ ਦਰਵਾਜੇ ਤੇ ਫਿਰ ਦੇ ਰਿਹਾ ਦਸਤਕ ਕੋਈ ।
Surinder blackpen
मौन में भी शोर है।
मौन में भी शोर है।
लक्ष्मी सिंह
श्रीजन के वास्ते आई है धरती पर वो नारी है।
श्रीजन के वास्ते आई है धरती पर वो नारी है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
जीवन में कितना ही धन -धन कर ले मनवा किंतु शौक़ पत्रिका में न
जीवन में कितना ही धन -धन कर ले मनवा किंतु शौक़ पत्रिका में न
Neelam Sharma
फोन
फोन
Kanchan Khanna
प्रकृति
प्रकृति
Bodhisatva kastooriya
प्यार
प्यार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
माँ
माँ
Arvina
पहले आप
पहले आप
Shivkumar Bilagrami
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
SATPAL CHAUHAN
💐अज्ञात के प्रति-108💐
💐अज्ञात के प्रति-108💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शिव - दीपक नीलपदम्
शिव - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पौधरोपण
पौधरोपण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिसकी भी आप तलाश मे हैं, वह आपके अन्दर ही है।
जिसकी भी आप तलाश मे हैं, वह आपके अन्दर ही है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
गलतियां ही सिखाती हैं
गलतियां ही सिखाती हैं
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आवाज़ दीजिए Ghazal by Vinit Singh Shayar
आवाज़ दीजिए Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
हम भी अपनी नज़र में
हम भी अपनी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
भरोसा
भरोसा
Paras Nath Jha
मानवता का धर्म है,सबसे उत्तम धर्म।
मानवता का धर्म है,सबसे उत्तम धर्म।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
रमेशराज के नवगीत
रमेशराज के नवगीत
कवि रमेशराज
"दिल को"
Dr. Kishan tandon kranti
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
* मन बसेगा नहीं *
* मन बसेगा नहीं *
surenderpal vaidya
*आते हैं बादल घने, घिर-घिर आती रात (कुंडलिया)*
*आते हैं बादल घने, घिर-घिर आती रात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आजादी का
आजादी का "अमृत महोत्सव"
राकेश चौरसिया
2978.*पूर्णिका*
2978.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...