Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2023 · 1 min read

दोहा

दोहा
धनिया, होरी, निर्मला, और गजाधर राय।
जन की भाषा लिख गये, लेखक धनपतराय।।
©दुष्यन्त ‘बाबा’

188 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इच्छा शक्ति अगर थोड़ी सी भी हो तो निश्चित
इच्छा शक्ति अगर थोड़ी सी भी हो तो निश्चित
Paras Nath Jha
2315.पूर्णिका
2315.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
🇮🇳🇮🇳*
🇮🇳🇮🇳*"तिरंगा झंडा"* 🇮🇳🇮🇳
Shashi kala vyas
नसीब तो ऐसा है मेरा
नसीब तो ऐसा है मेरा
gurudeenverma198
नमस्ते! रीति भारत की,
नमस्ते! रीति भारत की,
Neelam Sharma
हँसते गाते हुए
हँसते गाते हुए
Shweta Soni
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
वक्त
वक्त
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
क्या रखा है? वार में,
क्या रखा है? वार में,
Dushyant Kumar
दो शे'र ( मतला और इक शे'र )
दो शे'र ( मतला और इक शे'र )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*चलते-चलते मिल गईं, तुम माणिक की खान (कुंडलिया)*
*चलते-चलते मिल गईं, तुम माणिक की खान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
विश्व पुस्तक मेला
विश्व पुस्तक मेला
Dr. Kishan tandon kranti
*आत्म-मंथन*
*आत्म-मंथन*
Dr. Priya Gupta
मिर्जा पंडित
मिर्जा पंडित
Harish Chandra Pande
मानवता
मानवता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जाने कैसे आँख की,
जाने कैसे आँख की,
sushil sarna
क्या है उसके संवादों का सार?
क्या है उसके संवादों का सार?
Manisha Manjari
"राहे-मुहब्बत" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
#चुनावी_दंगल
#चुनावी_दंगल
*Author प्रणय प्रभात*
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम।
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम।
Anand Kumar
नारी तेरे रूप अनेक
नारी तेरे रूप अनेक
विजय कुमार अग्रवाल
रिश्तों का बदलता स्वरूप
रिश्तों का बदलता स्वरूप
पूर्वार्थ
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
खुदीराम बोस की शहादत का अपमान
खुदीराम बोस की शहादत का अपमान
कवि रमेशराज
छोटी- छोटी प्रस्तुतियों को भी लोग पढ़ते नहीं हैं, फिर फेसबूक
छोटी- छोटी प्रस्तुतियों को भी लोग पढ़ते नहीं हैं, फिर फेसबूक
DrLakshman Jha Parimal
Just a duty-bound Hatred | by Musafir Baitha
Just a duty-bound Hatred | by Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
कुछ पल साथ में आओ हम तुम बिता लें
कुछ पल साथ में आओ हम तुम बिता लें
Pramila sultan
डॉक्टर्स
डॉक्टर्स
Neeraj Agarwal
हम नही रोते परिस्थिति का रोना
हम नही रोते परिस्थिति का रोना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
अधिकार और पशुवत विचार
अधिकार और पशुवत विचार
ओंकार मिश्र
Loading...