Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Dec 2022 · 1 min read

दोहावली…

माँ की आँखें लाड़ में, आँसू से लवरेज।
मोती सच्चे प्यार के, रख ले इन्हें सहेज।।१।।

अपने अपने ना रहे, घर में रहकर गैर।
रिश्ते नाजुक मर रहे, कौन मनाए खैर।।२।।

चूल्हे घर में दो हुए, प्राणी केवल चार।
आँसू पीकर झेलते, विधना तेरी मार।।३।।

अपनी ही संतान जब, करे न मुँह से बात।
क्या होगा इससे बड़ा, दिल पर कह आघात।।४।।

मन को घोटे जी रहे, हलक न आए बैन।
उफ ये कैसी जिन्दगी,हर पल मन बेचैन।।५।।

जिसको सीने से लगा, सभी निभाए फर्ज।
पलभर की वो हाजिरी, आया करने दर्ज।।६।।

याद में जिनकी तड़पे, सारी-सारी रात।
आए आकर दे गए, आँसू की सौगात।।७।।

परदा डालें ज्ञान पर, काम मोह अरु क्रोध।
चंगुल इनके जो फँसे, रहे न सच का बोध।।८।।

खोट निकाले और में, खुद करता आराम।
निंदा-चुगली के सिवा, खलिहर को क्या काम।।९।।

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद ( उ.प्र.)
“मनके मेरे मन के” से

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 326 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
मेरी माटी मेरा देश भाव
मेरी माटी मेरा देश भाव
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
सच्चा धर्म
सच्चा धर्म
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विनती
विनती
कविता झा ‘गीत’
इंसानों के अंदर हर पल प्रतिस्पर्धा,स्वार्थ,लालच,वासना,धन,लोभ
इंसानों के अंदर हर पल प्रतिस्पर्धा,स्वार्थ,लालच,वासना,धन,लोभ
Rj Anand Prajapati
सब कुछ यूं ही कहां हासिल है,
सब कुछ यूं ही कहां हासिल है,
manjula chauhan
मन ही मन में मुस्कुराता कौन है।
मन ही मन में मुस्कुराता कौन है।
surenderpal vaidya
*बरसात (पाँच दोहे)*
*बरसात (पाँच दोहे)*
Ravi Prakash
अब कहां वो प्यार की रानाइयां।
अब कहां वो प्यार की रानाइयां।
सत्य कुमार प्रेमी
संस्कारों को भूल रहे हैं
संस्कारों को भूल रहे हैं
VINOD CHAUHAN
"दो पल की जिंदगी"
Yogendra Chaturwedi
हमनें अपना
हमनें अपना
Dr fauzia Naseem shad
अब बस बहुत हुआ हमारा इम्तिहान
अब बस बहुत हुआ हमारा इम्तिहान
ruby kumari
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
SHAMA PARVEEN
बेसहारों को देख मस्ती में
बेसहारों को देख मस्ती में
Neeraj Mishra " नीर "
वीकेंड
वीकेंड
Mukesh Kumar Sonkar
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
Ghanshyam Poddar
याद कब हमारी है
याद कब हमारी है
Shweta Soni
बेरोजगारी की महामारी
बेरोजगारी की महामारी
Anamika Tiwari 'annpurna '
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आप सच बताइयेगा
आप सच बताइयेगा
शेखर सिंह
तुम रख न सकोगे मेरा तोहफा संभाल कर।
तुम रख न सकोगे मेरा तोहफा संभाल कर।
लक्ष्मी सिंह
*जिंदगी  जीने  का नाम है*
*जिंदगी जीने का नाम है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
इम्तिहान
इम्तिहान
AJAY AMITABH SUMAN
बदली बारिश बुंद से
बदली बारिश बुंद से
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
--जो फेमस होता है, वो रूखसत हो जाता है --
--जो फेमस होता है, वो रूखसत हो जाता है --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
हर पल तलाशती रहती है नज़र,
हर पल तलाशती रहती है नज़र,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
खुशनसीब
खुशनसीब
Naushaba Suriya
🙅आज का सवाल🙅
🙅आज का सवाल🙅
*प्रणय प्रभात*
उदासियाँ  भरे स्याह, साये से घिर रही हूँ मैं
उदासियाँ भरे स्याह, साये से घिर रही हूँ मैं
_सुलेखा.
प्राण प्रतिष्ठा
प्राण प्रतिष्ठा
Mahender Singh
Loading...