Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 3, 2022 · 1 min read

दोस्त हो तो ऐसा

लाख मेरे दुश्मन मुझे
दे रहे थे बद्दुआ
पर मेरे दोस्तो ने मुझ पर
बद्दुआ का असर होने न दिया
अपनी दुआ से मुझे
बद्दुआ को छुने न दिया
निभाकर दोस्ती का फर्ज
उन्होने मुझे कभी रोने न दिया
मुझ पर आने वाले हर सितम को
उन्होंने हँसते हुए
अपने ऊपर ले लिया।

अनामिका

1 Like · 4 Comments · 71 Views
You may also like:
ऐ दिल सब्र कर।
Taj Mohammad
बदलते रिश्ते
पंकज कुमार "कर्ण"
मै और तुम ( हास्य व्यंग )
Ram Krishan Rastogi
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
काँच के रिश्ते ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
【25】 *!* विकृत विचार *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पुस्तक समीक्षा *तुम्हारे नेह के बल से (काव्य संग्रह)*
Ravi Prakash
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
कमी मेरी तेरे दिल को
Dr fauzia Naseem shad
क़ौल ( प्रण )
Shyam Sundar Subramanian
राती घाटी
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
✍️KITCHEN✍️
"अशांत" शेखर
उफ्फ! ये गर्मी मार ही डालेगी
Deepak Kohli
गुरु-पूर्णिमा पर...!!
Kanchan Khanna
✍️निशान✍️
"अशांत" शेखर
"मेरी कहानी"
Lohit Tamta
दर बदर।
Taj Mohammad
💔💔...broken
Palak Shreya
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
मालूम था।
Taj Mohammad
क्रांतिवीर हेडगेवार*
Ravi Prakash
अजब कहानी है।
Taj Mohammad
"जीवन"
Archana Shukla "Abhidha"
हम आजाद पंछी
Anamika Singh
भावों उर्मियाँ ( कुंडलिया संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
लफ़्ज़ों में ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
कैलाश मानसरोवर यात्रा (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मां शारदे
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
**अनमोल मोती**
Dr.Alpa Amin
Loading...