Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Dec 2023 · 4 min read

दोस्ती की कीमत – कहानी

विवेक और पारस गहरे दोस्त थे | वे दोनों एक दूसरे के पड़ोसी थे | उनके पिता भी एक ही कार्यालय में कार्यरत थे | दोनों परिवारों में काफी गहरे घरेलू सम्बन्ध थे | विवेक बचपन से ही ज्यादा संवेदनशील था | जबकि पारस चंचल स्वभाव का था | विवेक अपनी दोस्ती के लिए किसी भी हद तक जा सकता था |
एक बार की बात है जब पारस ने मोहल्ले में साइकिल चलाते हुए एक बच्चे के ऊपर साइकिल चढ़ा दी थी | तब इस घटना को पारस के कहने पर विवेक ने अपने ऊपर ले लिया था क्योंकि वह जानता था कि यदि पारस के पापा को पता चल गया तो वो पारस की चमड़ी उधेड़ देंगे | इस घटना के बाद पारस को लगने लगा कि जब भी ऐसी कोई घटना होगी वह अपने दोस्त विवेक की मदद से खुद को बचा लेगा |
एक दिन पारस अपने दोस्त के साथ बाज़ार जा रहा था | रास्ते में जब वह गलत साइड से सड़क पार कर रहा था तो उसे विवेक ने रोका | कितु पारस ने विवेक की बात पर कोई ध्यान नहीं दिया और सड़क पार करने लगा | इसी बीच सड़क पर आ रही एक मोटर साइकिल से वह टकरा गया | वैसे तो उसे कोई ख़ास चोट तो नहीं लगी पर उसने गुस्से में एक पत्थर उठाया और मोटर साइकिल वाले को दे मारा | मोटर साइकिल वाले के सिर से खून निकलने लगा | यह देख पारस वहां से भाग गया | विवेक ने भी इस घटना का जिक्र किसी से नहीं किया | बात आई और गई हो गयी | इस घटना के बाद पारस का हौसला और बढ़ गया |
स्कूल में एक दिन खेलते – खेलते पारस को पीछे से उसकी ही कक्षा के एक बच्चे महेश का धक्का लगने से पारस गिर जाता है | यह बात पारस को नागवार गुजरती है | पारस , महेश से बदला लेने के रास्ते खोजने लगता है | आधी छुट्टी के बाद फिर से एक और खेल का पीरियड मिलने से पारस का चेहरा खिल उठता है | वह विवेक को कहता है कि वो महेश को साइंस लैब के पीछे भेज दे मुझे उससे एक ख़ास काम है | सुबह की घटना से अनजान विवेक , महेश को जाकर कहता है कि पारस तुझसे साइंस लैब के पीछे मिलने के लिए बुला रहा है | महेश को लगा कि सुबह वाली घटना को लेकर पारस माफ़ी माँगना चाहता होगा इसलिए वह उसके पास जा पहुंचा | उसके पारस के पास पहुँचते ही पारस ने उसे पीटना शुरू कर दिया और तब तक पीटता रहा जब तक कि महेश बेहोश नहीं हो गया | उसके बाद पारस धीरे से वहां से खेल के मैदान में आ गया ताकि सबको लगे कि वो सबके साथ खेल रहा था |
कुछ देर बाद किसी ने स्कूल के प्रिंसिपल को बताया कि महेश साइंस लैब के पीछे बेहोश पड़ा है | वे उसे वहां से उठाकर अस्पताल ले गए | डॉक्टर ने बताया कि महेश की हालत नाजुक है | वहां पारस ने विवेक को समझा दिया कि तूने आज तक मेरा साथ दिया है और आज भी मेरा साथ देगा | मुझे तुझ पर विश्वास है | विवेक ने कुछ नहीं कहा | दोनों घर चले गए | अगले दिन महेश की पिटाई को लेकर स्कूल में पूछताछ होने लगी | विवेक चुप रहा | किसी बच्चे ने बताया कि खेलते समय विवेक ने महेश से कुछ कहा था | उसके बाद महेश मैदान छोड़कर कहीं चला गया था | पर विवेक ने इस बात से इनकार कर दिया |
पारस भी चुप रहा | कुछ देर बाद प्रिंसिपल सर ने विवेक और पारस को अपने कमरे में बुलाया | पर दोनों अपनी बात पर अड़े रहे | जब सख्ती की गयी तो पता चला कि विवेक ने पारस का गुनाह अपने सिर पर ले लिया | पर प्रिंसिपल सर को विश्वास ही नहीं हो रहा था | उन्होंने सी सी टी वी कैमरे का सहारा लिया तो पता चला कि विवेक ही महेश को बुलाने खेल के मैदान पर गया था और दूसरे कैमरे से देखने पर पता चला कि पारस बहुत ही बेरहमी से महेश को पीट रहा था | आखिर पारस को अपनी गलती स्वीकार करनी पड़ी और उसके माता – पिता को स्कूल बुला लिया गया | वे भी हर बार की तरह सोच रहे थे कि गलती विवेक की रही होगी | क्योंकि बचपन से ही विवेक अपने दोस्त पारस को बचाता आ रहा था | पारस को स्कूल से निकाल दिया गया | साथ ही महेश के इलाज का सारा खर्च भी पारस के पिता से लिया गया |
विवेक को भी पारस का साथ देने के लिए पंद्रह दिनों के लिए स्कूल से निष्कासित कर दिया गया | अपने दोस्त को और दोस्ती को बचाने के चक्कर में आज विवेक को ये दिन देखना पड़ा | अब उसे भी पता चल गया कि कोई भी हो उसकी गलती में उसका साथ नहीं देना चाहिए |

2 Likes · 486 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
कहाँ से लाऊँ वो उम्र गुजरी हुई
कहाँ से लाऊँ वो उम्र गुजरी हुई
डॉ. दीपक मेवाती
आपके अन्तर मन की चेतना अक्सर जागृत हो , आपसे , आपके वास्तविक
आपके अन्तर मन की चेतना अक्सर जागृत हो , आपसे , आपके वास्तविक
Seema Verma
डॉ अरुण कुमार शास्त्री /एक अबोध बालक
डॉ अरुण कुमार शास्त्री /एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कोरोना संक्रमण
कोरोना संक्रमण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नारी तुम
नारी तुम
Anju ( Ojhal )
खुशकिस्मत है कि तू उस परमात्मा की कृति है
खुशकिस्मत है कि तू उस परमात्मा की कृति है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दर्द व्यक्ति को कमजोर नहीं बल्कि मजबूत बनाती है और साथ ही मे
दर्द व्यक्ति को कमजोर नहीं बल्कि मजबूत बनाती है और साथ ही मे
Rj Anand Prajapati
विद्यावाचस्पति Ph.D हिन्दी
विद्यावाचस्पति Ph.D हिन्दी
Mahender Singh
ज़िंदगी...
ज़िंदगी...
Srishty Bansal
कवि की कल्पना
कवि की कल्पना
Rekha Drolia
मोहब्बत मुकम्मल हो ये ज़रूरी तो नहीं...!!!!
मोहब्बत मुकम्मल हो ये ज़रूरी तो नहीं...!!!!
Jyoti Khari
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
Neelam Sharma
*पुरानी पेंशन हक है मेरा(गीत)*
*पुरानी पेंशन हक है मेरा(गीत)*
Dushyant Kumar
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
The_dk_poetry
मैंने आज तक किसी के
मैंने आज तक किसी के
*Author प्रणय प्रभात*
2930.*पूर्णिका*
2930.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
** शिखर सम्मेलन **
** शिखर सम्मेलन **
surenderpal vaidya
'आभार' हिन्दी ग़ज़ल
'आभार' हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
एक प्यार ऐसा भी
एक प्यार ऐसा भी
श्याम सिंह बिष्ट
💐प्रेम कौतुक-256💐
💐प्रेम कौतुक-256💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Tum makhmal me palte ho ,
Tum makhmal me palte ho ,
Sakshi Tripathi
उसके सवालों का जवाब हम क्या देते
उसके सवालों का जवाब हम क्या देते
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
मनमुटाव अच्छा नहीं,
मनमुटाव अच्छा नहीं,
sushil sarna
शुभह उठता रात में सोता था, कम कमाता चेन से रहता था
शुभह उठता रात में सोता था, कम कमाता चेन से रहता था
Anil chobisa
#बह_रहा_पछुआ_प्रबल, #अब_मंद_पुरवाई!
#बह_रहा_पछुआ_प्रबल, #अब_मंद_पुरवाई!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जै जै जग जननी
जै जै जग जननी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गाँव का दृश्य (गीत)
गाँव का दृश्य (गीत)
प्रीतम श्रावस्तवी
ऐसे हैं हम तो, और सच भी यही है
ऐसे हैं हम तो, और सच भी यही है
gurudeenverma198
*धन्य-धन्य वे वीर, लक्ष्य जिनका आजादी* *(कुंडलिया)*
*धन्य-धन्य वे वीर, लक्ष्य जिनका आजादी* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
क्षितिज के उस पार
क्षितिज के उस पार
Suryakant Dwivedi
Loading...