Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Nov 2016 · 1 min read

कुछ मुक्तक -आधार छंद (दोधक)

बाबुल के मन की बिटिया हूँ
आँचल में लिपटी गुड़िया हूँ
है बदली हर सोच पुरानी
मैं नभ की उड़ती चिड़िया हूँ

बात सभी अपनी कहते हैं
भाव जुड़े उसमें रखते हैं
शब्द प्रयोग करें कम वो जो
सागर, गागर में भरते हैं

सैर करें यदि रोज सवेरे
रोग नहीं तन को फिर घेरे
साफ़ किया मन भी अपना तो
जीवन के सब दूर अँधेरे

बात कभी दिल को चुभ जाती
आँख तभी कितना भर आती
तोल तभी कुछ भी तुम बोलो
ये वरना कड़वाहट लाती

हार यहाँ पर जीत बनाना
रोकर बैठ नहीं तुम जाना
कोशिश ही करते रहना है
मंज़िल को तुमको यदि पाना

मौसम ले मत तू अँगड़ाई
सावन की अब तो रुत छाई
लो खिलके अब फूल बनी ये
देख कली हर यूँ मुसकाई
डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
939 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
गुरुकुल स्थापित हों अगर,
गुरुकुल स्थापित हों अगर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चाय
चाय
Rajeev Dutta
हक जता तो दू
हक जता तो दू
Swami Ganganiya
अगले बरस जल्दी आना
अगले बरस जल्दी आना
Kavita Chouhan
दोस्ती बहुत प्यारा और ऊँचा  रिश्ता है ,, सदैव इसकी गरिमा बना
दोस्ती बहुत प्यारा और ऊँचा रिश्ता है ,, सदैव इसकी गरिमा बना
Neelofar Khan
बंगाल में जाकर जितनी बार दीदी,
बंगाल में जाकर जितनी बार दीदी,
शेखर सिंह
घटा घनघोर छाई है...
घटा घनघोर छाई है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
क्रिसमस से नये साल तक धूम
क्रिसमस से नये साल तक धूम
Neeraj Agarwal
प्यासा के राम
प्यासा के राम
Vijay kumar Pandey
तुम अगर कविता बनो तो, गीत मैं बन जाऊंगा।
तुम अगर कविता बनो तो, गीत मैं बन जाऊंगा।
जगदीश शर्मा सहज
यही है हमारी मनोकामना माँ
यही है हमारी मनोकामना माँ
Dr Archana Gupta
रमेशराज की कहमुकरी संरचना में 10 ग़ज़लें
रमेशराज की कहमुकरी संरचना में 10 ग़ज़लें
कवि रमेशराज
खुद को संभाल
खुद को संभाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
மழையின் சத்தத்தில்
மழையின் சத்தத்தில்
Otteri Selvakumar
वक्त
वक्त
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
प्रकृति सुर और संगीत
प्रकृति सुर और संगीत
Ritu Asooja
विश्व पुस्तक दिवस पर
विश्व पुस्तक दिवस पर
Mohan Pandey
"Radiance of Purity"
Manisha Manjari
3519.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3519.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
"ओ मेरे मांझी"
Dr. Kishan tandon kranti
जिन्होंने भारत को लूटा फैलाकर जाल
जिन्होंने भारत को लूटा फैलाकर जाल
Rakesh Panwar
Activities for Environmental Protection
Activities for Environmental Protection
अमित कुमार
हिन्दु नववर्ष
हिन्दु नववर्ष
भरत कुमार सोलंकी
सफलता
सफलता
Paras Nath Jha
बढ़ी हैं दूरियां दिल की भले हम पास बैठे हैं।
बढ़ी हैं दूरियां दिल की भले हम पास बैठे हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
■ लीजिए संकल्प...
■ लीजिए संकल्प...
*प्रणय प्रभात*
सजदे में सर झुका तो
सजदे में सर झुका तो
shabina. Naaz
~ हमारे रक्षक~
~ हमारे रक्षक~
करन ''केसरा''
*बोले बच्चे माँ तुम्हीं, जग में सबसे नेक【कुंडलिया】*
*बोले बच्चे माँ तुम्हीं, जग में सबसे नेक【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
क्या रखा है? वार में,
क्या रखा है? वार में,
Dushyant Kumar
Loading...