Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2023 · 1 min read

दोगला चेहरा

जान जाते हैं मौसम का रुख
पहले ही, हैं ऐसे इंसान हम
जब जान पाएंगे दर्द सामने वाले का
कब बन पाएंगे ऐसे इंसान हम

जाते रहते हैं आज चांद पर लेकिन
कब पड़ौसी के घर गए, ये याद नहीं
है व्यस्तता इतनी अब हमारी
बच्चे कब बड़े हो गए, ये भी याद नहीं

चलाते हैं अभियान स्वच्छता के लेकिन
कभी मन का कचरा निकालने का वक्त नहीं
सबकुछ ऑटोमेटिक हो गया है अब लेकिन
अपने लिए तो अब भी हमारे पास वक्त नहीं

करते हैं बातें आध्यात्म की बड़ी बड़ी लेकिन
सच और विश्वास से अब हमारा कोई नाता नहीं
करते हैं बस अपेक्षाएं दूसरों से लेकिन
खुद का वास्तविकता से कोई नाता नहीं

गुलाम हो गए हैं तकनीक के हम इतने
जाने कब भस्मासुर बन जाए हमारे लिए
पहुंच जाएंगे नाभिकीय हथियार गलत हाथों में
बहुत मुश्किल हो जाएगा ज़माने के लिए

जाने बर्बाद करते हैं आशियाने
कितने जीवों के हम विकास के नाम पर
लेकिन बीत जाए खुद पर अगर
तो उसे प्रकृति का प्रकोप कहते हैं

बारूद बनाने वाले के नाम पर
हम शांति का सबसे बड़ा पुरस्कार देते हैं
है हमारा ये कैसा दोगलापन तुम भी बताओ
जब शांतिदूत को ही उससे वंचित करते हैं।

Language: Hindi
8 Likes · 1 Comment · 1436 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
Dr Tabassum Jahan
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
Anil chobisa
संभावना है जीवन, संभावना बड़ी है
संभावना है जीवन, संभावना बड़ी है
Suryakant Dwivedi
विश्व जनसंख्या दिवस
विश्व जनसंख्या दिवस
Bodhisatva kastooriya
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
Gunjan Tiwari
तू है लबड़ा / MUSAFIR BAITHA
तू है लबड़ा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
पारा बढ़ता जा रहा, गर्मी गुस्सेनाक (कुंडलिया )
पारा बढ़ता जा रहा, गर्मी गुस्सेनाक (कुंडलिया )
Ravi Prakash
दुनिया की आख़िरी उम्मीद हैं बुद्ध
दुनिया की आख़िरी उम्मीद हैं बुद्ध
Shekhar Chandra Mitra
■ इधर कुआं, उधर खाई।।
■ इधर कुआं, उधर खाई।।
*Author प्रणय प्रभात*
यूंही सावन में तुम बुनबुनाती रहो
यूंही सावन में तुम बुनबुनाती रहो
Basant Bhagawan Roy
माँ का प्यार है अनमोल
माँ का प्यार है अनमोल
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कभी कभी
कभी कभी
Shweta Soni
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
pravin sharma
खामोश किताबें
खामोश किताबें
Madhu Shah
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
देख भाई, ये जिंदगी भी एक न एक दिन हमारा इम्तिहान लेती है ,
देख भाई, ये जिंदगी भी एक न एक दिन हमारा इम्तिहान लेती है ,
Dr. Man Mohan Krishna
शिक्षा बिना जीवन है अधूरा
शिक्षा बिना जीवन है अधूरा
gurudeenverma198
मिथ्या इस  संसार में,  अर्थहीन  सम्बंध।
मिथ्या इस संसार में, अर्थहीन सम्बंध।
sushil sarna
जिन्दगी के रोजमर्रे की रफ़्तार में हम इतने खो गए हैं की कभी
जिन्दगी के रोजमर्रे की रफ़्तार में हम इतने खो गए हैं की कभी
Sukoon
दिली नज़्म कि कभी ताकत थी बहारें,
दिली नज़्म कि कभी ताकत थी बहारें,
manjula chauhan
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के प्रपंच
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के प्रपंच
कवि रमेशराज
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
“ इन लोगों की बात सुनो”
“ इन लोगों की बात सुनो”
DrLakshman Jha Parimal
किभी भी, किसी भी रूप में, किसी भी वजह से,
किभी भी, किसी भी रूप में, किसी भी वजह से,
शोभा कुमारी
बेजुबान तस्वीर
बेजुबान तस्वीर
Neelam Sharma
"कष्ट"
Dr. Kishan tandon kranti
रिश्तों में झुकना हमे मुनासिब लगा
रिश्तों में झुकना हमे मुनासिब लगा
Dimpal Khari
Try to find .....
Try to find .....
पूर्वार्थ
लोग जीते जी भी तो
लोग जीते जी भी तो
Dr fauzia Naseem shad
Loading...