Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2017 · 1 min read

देश

चन्दन ओ अबीर है माटी मेरे देश की
कंचन सी ज़हीर है माटी मेरे देश की
गीता ओ क़ुरान जहाँ ईसा दशमेश भी
ऐसी बेनज़ीर है माटी मेरे देश की ,,,
वन्दे मातरम कहा तोप के भी सामने
हिंद का जयकार किया मिल के नर नार ने
हँस के जवानों ने जान अपनी पेश की
वीरों का ज़मीर है माटी मेरे देश की ,,,
न छल बल खल से खलल कोई डालना
पल में कुटिल को कुचल के है डालना
हमें है खबर सब तेरे छद्म वेश की
लक्ष्मण की लकीर है माटी मेरे देश की ,,,
अस्मिता अखंड हो न देश खंड खंड हो
अधर्म न पाखंड हो न हिंसा ही प्रचंड हो
आतंकियों का देश में बचे न अवशेष भी
संतों की कुटीर है माटी मेरे देश की ,,,
पाप अत्याचार की दुराव व्यभिचार की
आती है हमें भी विधि इनके उपचार की
करें प्रतिकार पल में देरी न हो लेश भी
ऐसी शमशीर है माटी मेरे देश की ,,,
धर्म भाषा पंथ भले देश में अनेक हैं
भिन्नता में एकता की भावनाएं नेक हैं
विष वल्लरी न उगे हिंसा क्लेश द्वेष की
तुलसी ओ कबीर है माटी मेरे देश की
गौरव की प्राचीर है माटी मेरे देश की

Language: Hindi
Tag: गीत
263 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हसदेव बचाना है
हसदेव बचाना है
Jugesh Banjare
💐प्रेम कौतुक-290💐
💐प्रेम कौतुक-290💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुद्दतों बाद फिर खुद से हुई है, मोहब्बत मुझे।
मुद्दतों बाद फिर खुद से हुई है, मोहब्बत मुझे।
Manisha Manjari
गृहस्थ संत श्री राम निवास अग्रवाल( आढ़ती )
गृहस्थ संत श्री राम निवास अग्रवाल( आढ़ती )
Ravi Prakash
आज के दिन छोटी सी पिंकू, मेरे घर में आई
आज के दिन छोटी सी पिंकू, मेरे घर में आई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
// श्री राम मंत्र //
// श्री राम मंत्र //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गुमनाम राही
गुमनाम राही
AMRESH KUMAR VERMA
काँटा ...
काँटा ...
sushil sarna
आधुनिक युग और नशा
आधुनिक युग और नशा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"अगर हो वक़्त अच्छा तो सभी अपने हुआ करते
आर.एस. 'प्रीतम'
शनि देव
शनि देव
Sidhartha Mishra
इश्क का तोता
इश्क का तोता
Neelam Sharma
सृजन
सृजन
Prakash Chandra
महत्व
महत्व
Dr. Kishan tandon kranti
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
सत्य कुमार प्रेमी
गायें गौरव गान
गायें गौरव गान
surenderpal vaidya
चाहत
चाहत
Sûrëkhâ Rãthí
कोई किसी के लिए जरुरी नहीं होता मुर्शद ,
कोई किसी के लिए जरुरी नहीं होता मुर्शद ,
शेखर सिंह
दादा की मूँछ
दादा की मूँछ
Dr Nisha nandini Bhartiya
चांद पे हमको
चांद पे हमको
Dr fauzia Naseem shad
2491.पूर्णिका
2491.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
!! बोलो कौन !!
!! बोलो कौन !!
Chunnu Lal Gupta
आता है उनको मजा क्या
आता है उनको मजा क्या
gurudeenverma198
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
नारी अस्मिता
नारी अस्मिता
Shyam Sundar Subramanian
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sakshi Tripathi
■ लोकतंत्र की जय।
■ लोकतंत्र की जय।
*Author प्रणय प्रभात*
उसकी मोहब्बत का नशा भी कमाल का था.......
उसकी मोहब्बत का नशा भी कमाल का था.......
Ashish shukla
आम का मौसम
आम का मौसम
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सत्य = सत ( सच) यह
सत्य = सत ( सच) यह
डॉ० रोहित कौशिक
Loading...