Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 28, 2017 · 1 min read

देश

चन्दन ओ अबीर है माटी मेरे देश की
कंचन सी ज़हीर है माटी मेरे देश की
गीता ओ क़ुरान जहाँ ईसा दशमेश भी
ऐसी बेनज़ीर है माटी मेरे देश की ,,,
वन्दे मातरम कहा तोप के भी सामने
हिंद का जयकार किया मिल के नर नार ने
हँस के जवानों ने जान अपनी पेश की
वीरों का ज़मीर है माटी मेरे देश की ,,,
न छल बल खल से खलल कोई डालना
पल में कुटिल को कुचल के है डालना
हमें है खबर सब तेरे छद्म वेश की
लक्ष्मण की लकीर है माटी मेरे देश की ,,,
अस्मिता अखंड हो न देश खंड खंड हो
अधर्म न पाखंड हो न हिंसा ही प्रचंड हो
आतंकियों का देश में बचे न अवशेष भी
संतों की कुटीर है माटी मेरे देश की ,,,
पाप अत्याचार की दुराव व्यभिचार की
आती है हमें भी विधि इनके उपचार की
करें प्रतिकार पल में देरी न हो लेश भी
ऐसी शमशीर है माटी मेरे देश की ,,,
धर्म भाषा पंथ भले देश में अनेक हैं
भिन्नता में एकता की भावनाएं नेक हैं
विष वल्लरी न उगे हिंसा क्लेश द्वेष की
तुलसी ओ कबीर है माटी मेरे देश की
गौरव की प्राचीर है माटी मेरे देश की

109 Views
You may also like:
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
तेरी एक तिरछी नज़र
DESH RAJ
गधा
Buddha Prakash
मै हूं एक मिट्टी का घड़ा
Ram Krishan Rastogi
विश्व हास्य दिवस
Dr Archana Gupta
आया आषाढ़
श्री रमण
सितम पर सितम।
Taj Mohammad
वसंत
AMRESH KUMAR VERMA
गाँव की स्थिति.....
Dr. Alpa H. Amin
✍️✍️ए जिंदगी✍️✍️
"अशांत" शेखर
भारत को क्या हो चला है
Mr Ismail Khan
आलिंगन हो जानें दो।
Taj Mohammad
नाम
Ranjit Jha
सिर्फ एक भूल जो करती है खबरदार
gurudeenverma198
पिता
Ram Krishan Rastogi
*बुद्ध पूर्णिमा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
बचालों यारों.... पर्यावरण..
Dr. Alpa H. Amin
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
Listen carefully.
Taj Mohammad
*चाची जी श्रीमती लक्ष्मी देवी : स्मृति*
Ravi Prakash
बद्दुआ बन गए है।
Taj Mohammad
✍️मुमकिन था..!✍️
"अशांत" शेखर
Crumbling Wall
Manisha Manjari
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
!!! राम कथा काव्य !!!
जगदीश लववंशी
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...