Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jun 2023 · 3 min read

देश भक्ति का ढोंग

इग्लैंड और फ्रांस के बीच चलने वाली एक ट्रेन जो इग्लैंड जा रही थी उसमें मुसाफिर लगभग भर चुके थे सिर्फ एक सीट खाली रह गई थी। ट्रेन चलने से थोड़ी देर पहले एक अंग्रेज शख्स आया और उस सीट पर बैठ गया। बगल में पहले से ही एक फ्रांसीसी महिला बैठी हुई थी।
फ़्रांसीसी महिला के चेहरे से परेशानी साफ झलक रही थी। उसके चेहरे पर अत्यधिक तनाव देखकर अंग्रेज से रहा न गया। वह पूछ बैठा, ‘आप क्यो इतनी परेशान हैं ?’
उस महिला ने हिचकिचाहट के साथ कहा, ‘मेरे पास इग्लैंड के कानून के मुताबिक रखने वाली रकम से ज्यादा रकम है, जो दस हजार पाउंड बनते हैं। फ्रांस में इतनी रकम रखना जुर्म नही है मगर इग्लैंड में जुर्म है, न जाने वहां मेरे साथ क्या सलूक होगा ?’
अंग्रेज बोला, ‘यह तो कोई मसला नही है। अगर आप राजी हों तो आधी रकम मुझे दे दें, बाकी 5000 पाउंड आपके पास रहेगा। हो सकता है किसी को पुलिस ने गिरफ्तार भी कर लिया तो आधी रकम बच जायेगी। आप मुझे लन्दन और फ्रांस का पता लिखकर दे दें। ऐसी सूरत में मैं आपका पैसा आपको वापस कर दुंगा।’
महिला ने अपना पता लिखकर दे दिया।
रेल से उतरने के बाद फ़्रांसीसी महिला पुलिस के चेकिंग से बिना किसी रूकावट के गुजर चुकी थी कि अंग्रेज जोर से चीख पड़ा और पुलिस को उस महिला की तरफ इशारा करते हुए बोला, ‘साहब उस औरत को पकड़े वह दस हजार पाउंड गैर कानूनी तौर पर लेकर जा रही है, उसमें से आधी मेरे पास और आधा पांच हजार पाउंड उसके पास है। साहब मैं इग्लैंड का “देश भक्त “शहरी हूँ और मैं अपने महबूब देश से गद्दारी करने का सोच भी नही सकता। मैंने जानबूझकर उसकी मदद की ताकि अपने “महान देश” से मेरी देश भक्ती साबित हो सके।’
पुलिस ने महिला की दोबारा तलाशी ली और आधी रकम बरामद कर ली। महिला ने अपना जुर्म कबूल भी कर लिया। अंग्रेज ने भी अपने पास रखी आधी रकम पुलिस के हवाले कर दिया।
पुलिस अफसर ने मनी लांड्रिंग से देश की इकॉनमी को पहुंचने वाले नुकसान के बारे में बात करते हुए अंग्रेज का शुक्रिया अदा किया। उसकी देश भक्ती की जमकर तारीफ करते हुए इज्जत के साथ जाने दिया और उस फ्रांसीसी महिला को दूसरी ट्रेन से वापस फ्रांस भेज दिया।
कुछ दिन बाद फ्रांसीसी महिला के दरवाजे पर दस्तक हुई, जवाब में उसने दरवाजा खोला तो सामने अंग्रेज खड़ा था। हैरानी और गुस्से के मिले जुले हालत में महिला बोली, ‘तुम कितने झूठे और मक्कार आदमी हो कि धोखे से मेरे पैसे पुलिस को बरामद करा दी और कितने बेशरम हो कि सामने आकर खड़े भी हो गये।’
अंग्रेज ने महिला के किसी भी बात पर रिएक्शन देने के बजाये उसे एक लिफाफा थमाया, जिसमें 15000 पाउंड थे और सपाट लहजे में बोला, ‘यह आपकी रकम है और बाकी पैसे मेरी तरफ से आपके लिए इनाम है।’
फ्रांसीसी महिला उसकी बात सुनकर हैरान रह गई कि यह क्या माजरा है?
अंग्रेज कहने लगा, ‘मैडम आपका गुस्सा जायज है। मगर उस वक्त मैं पुलिस का ध्यान अपने बैग से हटाना चाहता था। जिसमें पहले से ही तीन मिलियन पाउंड थे। मुझे इसलिये यह नाटक करनी पड़ी। जिसमें आपके दस हजार पाउंड चले गये मगर मेरे लिए यह सौदा जरा भी महंगा नही था।’

सीख:
कभी कभी चीख चीख कर देशभक्ती, कानून की रखवाला और ईमानदारी का दावा करने वाला व्यक्ति दरअसल चोर भी हो सकता है
जो देशभक्ती की आड़ लेकर अपने आपको बचा रहा होता है !
©आत्मबोध

254 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक समय बेकार पड़ा था
एक समय बेकार पड़ा था
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*कुकर्मी पुजारी*
*कुकर्मी पुजारी*
Dushyant Kumar
मां शारदे कृपा बरसाओ
मां शारदे कृपा बरसाओ
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
ओ माँ... पतित-पावनी....
ओ माँ... पतित-पावनी....
Santosh Soni
*चलता रहेगा विश्व यह, हम नहीं होंगे मगर (वैराग्य गीत)*
*चलता रहेगा विश्व यह, हम नहीं होंगे मगर (वैराग्य गीत)*
Ravi Prakash
राजनीतिकों में चिंता नहीं शेष
राजनीतिकों में चिंता नहीं शेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
इश्क़-ए-फन में फनकार बनना हर किसी के बस की बात नहीं होती,
इश्क़-ए-फन में फनकार बनना हर किसी के बस की बात नहीं होती,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आज़ादी के बाद भारत में हुए 5 सबसे बड़े भीषण रेल दुर्घटना
आज़ादी के बाद भारत में हुए 5 सबसे बड़े भीषण रेल दुर्घटना
Shakil Alam
23/129.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/129.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वीर सुरेन्द्र साय
वीर सुरेन्द्र साय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अछूत
अछूत
Lovi Mishra
कुछ लोग हेलमेट उतारे बिना
कुछ लोग हेलमेट उतारे बिना
*प्रणय प्रभात*
मनुष्य को
मनुष्य को
ओंकार मिश्र
बड़े महंगे महगे किरदार है मेरे जिन्दगी में l
बड़े महंगे महगे किरदार है मेरे जिन्दगी में l
Ranjeet kumar patre
सत्यता वह खुशबू का पौधा है
सत्यता वह खुशबू का पौधा है
प्रेमदास वसु सुरेखा
"खुद का उद्धार करने से पहले सामाजिक उद्धार की कल्पना करना नि
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
फितरत में वफा हो तो
फितरत में वफा हो तो
shabina. Naaz
आजकल लोग बहुत निष्ठुर हो गए हैं,
आजकल लोग बहुत निष्ठुर हो गए हैं,
ओनिका सेतिया 'अनु '
जालोर के वीर वीरमदेव
जालोर के वीर वीरमदेव
Shankar N aanjna
हुकुम की नई हिदायत है
हुकुम की नई हिदायत है
Ajay Mishra
🚩वैराग्य
🚩वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अकेलापन
अकेलापन
Neeraj Agarwal
पाठ कविता रुबाई kaweeshwar
पाठ कविता रुबाई kaweeshwar
jayanth kaweeshwar
कविता
कविता
Shiva Awasthi
"मानो या न मानो"
Dr. Kishan tandon kranti
मत कुचलना इन पौधों को
मत कुचलना इन पौधों को
VINOD CHAUHAN
सोहर
सोहर
Indu Singh
ବାତ୍ୟା ସ୍ଥିତି
ବାତ୍ୟା ସ୍ଥିତି
Otteri Selvakumar
छोटे बच्चों की ऊँची आवाज़ को माँ -बाप नज़रअंदाज़ कर देते हैं पर
छोटे बच्चों की ऊँची आवाज़ को माँ -बाप नज़रअंदाज़ कर देते हैं पर
DrLakshman Jha Parimal
उलझते रिश्तो को सुलझाना मुश्किल हो गया है
उलझते रिश्तो को सुलझाना मुश्किल हो गया है
Harminder Kaur
Loading...