Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Aug 2023 · 1 min read

देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं

देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
भीड़ में शामिल मगर, अफ़सोस दिखते ही नहीं हैं
बाज़ मौकों पे हमेशा ही, ज़हर घोलें फ़िज़ा में
हैं बड़े मासूम वो, क़ातिल भी, लगते ही नहीं हैं
– महावीर उत्तरांचली

1 Like · 269 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
परिश्रम
परिश्रम
Neeraj Agarwal
उस दिन
उस दिन
Shweta Soni
आपन गांव
आपन गांव
अनिल "आदर्श"
सावन महिना
सावन महिना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
गुरु हो साथ तो मंजिल अधूरा हो नही सकता
गुरु हो साथ तो मंजिल अधूरा हो नही सकता
Diwakar Mahto
ये कलयुग है ,साहब यहां कसम खाने
ये कलयुग है ,साहब यहां कसम खाने
Ranjeet kumar patre
संग चले जीवन की राह पर हम
संग चले जीवन की राह पर हम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
जब तक प्रश्न को तुम ठीक से समझ नहीं पाओगे तब तक तुम्हारी बुद
जब तक प्रश्न को तुम ठीक से समझ नहीं पाओगे तब तक तुम्हारी बुद
Rj Anand Prajapati
मंजिलों की तलाश में, रास्ते तक खो जाते हैं,
मंजिलों की तलाश में, रास्ते तक खो जाते हैं,
Manisha Manjari
अपनी निगाह सौंप दे कुछ देर के लिए
अपनी निगाह सौंप दे कुछ देर के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कबीर एवं तुलसीदास संतवाणी
कबीर एवं तुलसीदास संतवाणी
Khaimsingh Saini
बम
बम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-139 शब्द-दांद
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-139 शब्द-दांद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सच्ची होली
सच्ची होली
Mukesh Kumar Rishi Verma
वैसे अपने अपने विचार है
वैसे अपने अपने विचार है
शेखर सिंह
*आओ खेलें खेल को, खेल-भावना संग (कुंडलिया)*
*आओ खेलें खेल को, खेल-भावना संग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तुमसे एक पुराना रिश्ता सा लगता है मेरा,
तुमसे एक पुराना रिश्ता सा लगता है मेरा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"" *मौन अधर* ""
सुनीलानंद महंत
हिंदी
हिंदी
पंकज कुमार कर्ण
किस किस्से का जिक्र
किस किस्से का जिक्र
Bodhisatva kastooriya
ग़ज़ल -1222 1222 122 मुफाईलुन मुफाईलुन फऊलुन
ग़ज़ल -1222 1222 122 मुफाईलुन मुफाईलुन फऊलुन
Neelam Sharma
ज्ञानवान के दीप्त भाल पर
ज्ञानवान के दीप्त भाल पर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
■ एक ही सलाह...
■ एक ही सलाह...
*प्रणय प्रभात*
बाबुल का घर तू छोड़ चली
बाबुल का घर तू छोड़ चली
gurudeenverma198
2652.पूर्णिका
2652.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तू नर नहीं नारायण है
तू नर नहीं नारायण है
Dr. Upasana Pandey
विभीषण का दुःख
विभीषण का दुःख
Dr MusafiR BaithA
मुझसे गुस्सा होकर
मुझसे गुस्सा होकर
Mr.Aksharjeet
Loading...