Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2023 · 1 min read

देर तक मैंने आईना देखा

मुझमें मुझसा नज़र नहीं आया ।
देर तक मैंने आईना देखा ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
9 Likes · 346 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
दीप शिखा सी जले जिंदगी
दीप शिखा सी जले जिंदगी
Suryakant Dwivedi
"You will have days where you feel better, and you will have
पूर्वार्थ
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
गुप्तरत्न
" बस तुम्हें ही सोचूँ "
Pushpraj Anant
आराधना
आराधना
Kanchan Khanna
पिता
पिता
Neeraj Agarwal
चाहता हे उसे सारा जहान
चाहता हे उसे सारा जहान
Swami Ganganiya
संवेदना
संवेदना
नेताम आर सी
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सर्द हवाओं का मौसम
सर्द हवाओं का मौसम
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
इस आकाश में अनगिनत तारे हैं
इस आकाश में अनगिनत तारे हैं
Sonam Puneet Dubey
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मत देख कि कितनी बार  हम  तोड़े  जाते  हैं
मत देख कि कितनी बार हम तोड़े जाते हैं
Anil Mishra Prahari
सोचता हूँ  ऐ ज़िन्दगी  तुझको
सोचता हूँ ऐ ज़िन्दगी तुझको
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ये धरती महान है
ये धरती महान है
Santosh kumar Miri
****माता रानी आई ****
****माता रानी आई ****
Kavita Chouhan
महफ़िल जो आए
महफ़िल जो आए
हिमांशु Kulshrestha
*कबूतर (बाल कविता)*
*कबूतर (बाल कविता)*
Ravi Prakash
जिसको भी चाहा तुमने साथी बनाना
जिसको भी चाहा तुमने साथी बनाना
gurudeenverma198
#हास्यप्रद_जिज्ञासा
#हास्यप्रद_जिज्ञासा
*प्रणय प्रभात*
"फुटपाथ"
Dr. Kishan tandon kranti
इंसानों के अंदर हर पल प्रतिस्पर्धा,स्वार्थ,लालच,वासना,धन,लोभ
इंसानों के अंदर हर पल प्रतिस्पर्धा,स्वार्थ,लालच,वासना,धन,लोभ
Rj Anand Prajapati
हम बच्चों की आई होली
हम बच्चों की आई होली
लक्ष्मी सिंह
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
Johnny Ahmed 'क़ैस'
कैसे कहूँ किसको कहूँ
कैसे कहूँ किसको कहूँ
DrLakshman Jha Parimal
इतना हमने भी
इतना हमने भी
Dr fauzia Naseem shad
यह आशामय दीप
यह आशामय दीप
Saraswati Bajpai
एक बछड़े को देखकर
एक बछड़े को देखकर
Punam Pande
2964.*पूर्णिका*
2964.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बरसात...
बरसात...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...