Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2017 · 1 min read

दूरियां (मुक्तक)

मुक्तक

तुमसे मिले बिना यें मेरी जिन्दगी
अधूरी है।
मिल नही सकते हम-तुम यें कैसी मजबूरी है।
सिन्दूरी यें सांझ पिया आ देखो!
दिल मिल गयें जब आपस में फिर काहे की दूरी है।

सुधा भारद्वाज
विकासनगर उत्तराखण्ड

Language: Hindi
372 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भरत नाम अधिकृत भारत !
भरत नाम अधिकृत भारत !
Neelam Sharma
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
बाजार आओ तो याद रखो खरीदना क्या है।
बाजार आओ तो याद रखो खरीदना क्या है।
Rajendra Kushwaha
हृदय को ऊॅंचाइयों का भान होगा।
हृदय को ऊॅंचाइयों का भान होगा।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
धोखे का दर्द
धोखे का दर्द
Sanjay ' शून्य'
2952.*पूर्णिका*
2952.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं जब करीब रहता हूँ किसी के,
मैं जब करीब रहता हूँ किसी के,
Dr. Man Mohan Krishna
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कारगिल युद्ध फतह दिवस
कारगिल युद्ध फतह दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
The sky longed for the earth, so the clouds set themselves free.
The sky longed for the earth, so the clouds set themselves free.
Manisha Manjari
जिस नई सुबह ने
जिस नई सुबह ने
PRADYUMNA AROTHIYA
रंगों का कोई धर्म नहीं होता होली हमें यही सिखाती है ..
रंगों का कोई धर्म नहीं होता होली हमें यही सिखाती है ..
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
बड़ा मन करऽता।
बड़ा मन करऽता।
जय लगन कुमार हैप्पी
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
*जीवन के संघर्षों में कुछ, पाया है कुछ खोया है (हिंदी गजल)*
*जीवन के संघर्षों में कुछ, पाया है कुछ खोया है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
" SHOW MUST GO ON "
DrLakshman Jha Parimal
#सवाल-
#सवाल-
*प्रणय प्रभात*
आप जब खुद को
आप जब खुद को
Dr fauzia Naseem shad
Perceive Exams as a festival
Perceive Exams as a festival
Tushar Jagawat
अर्ज है
अर्ज है
Basant Bhagawan Roy
खरीद लूंगा तुझे तेरे नखरों सहित ऐ जिन्दगी
खरीद लूंगा तुझे तेरे नखरों सहित ऐ जिन्दगी
Ranjeet kumar patre
तलाश हमें  मौके की नहीं मुलाकात की है
तलाश हमें मौके की नहीं मुलाकात की है
Tushar Singh
"प्रयोग"
Dr. Kishan tandon kranti
जब अन्तस में घिरी हो, दुख की घटा अटूट,
जब अन्तस में घिरी हो, दुख की घटा अटूट,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
नारायणी
नारायणी
Dhriti Mishra
आसमान तक पहुंचे हो धरती पर हो पांव
आसमान तक पहुंचे हो धरती पर हो पांव
नूरफातिमा खातून नूरी
पिता
पिता
विजय कुमार अग्रवाल
तो क्या हुआ
तो क्या हुआ
Sûrëkhâ
लिबास -ए – उम्मीद सुफ़ेद पहन रक्खा है
लिबास -ए – उम्मीद सुफ़ेद पहन रक्खा है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...