Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Oct 2023 · 1 min read

#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे

#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
______________________
नयनों में निष्ठुरता के जब,
भाव समाने लग जायेंगे।
प्रतिशोध के लिए उर में जब,
दाव समाने लग जायेंगे।
सत्य यही समझो तब प्यारे,
दुर्दिन हैं सन्निकट तुम्हारे।

मर्यादा की लक्ष्मण रेखा,
लांघ अधर्मी बन जाओगे।
इच्छाओं के मद हो अंधे,
तुम अपकर्मी बन जाओगे।
स्वयं खड़े अपहति के द्वारे,
दुर्दिन हैं सन्निकट तुम्हारे।

अनुकम्पा से रिक्त हुआ मन,
जैसे दुष्ट स्वजन कुल घालक।
दुर्व्यसनो से लिप्त लगे तन,
उच्छृंखल मतिमंद हो बालक।
कर्मेन्द्रिय सु-कर्म से हारे,
दुर्दिन हैं सन्निकट तुम्हारे।

द्वेष लोलुपता क्षोभ भरा मन,
वक्ष कपट से हुआ लबालब।
सत्ता सिद्धि करें यह इच्छा ,
पाल उपद्रव करे बेमतलब।
भाव अहम का लेकर उर में,
समझ रहे सब वारे-न्यारे।
दुर्दिन हैं सन्निकट तुम्हारे।।

✍️ संजीव शुक्ल ‘सचिन’

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 179 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
बताता कहां
बताता कहां
umesh mehra
नए सफर पर चलते है।
नए सफर पर चलते है।
Taj Mohammad
पते की बात - दीपक नीलपदम्
पते की बात - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रो रो कर बोला एक पेड़
रो रो कर बोला एक पेड़
Buddha Prakash
गुहार
गुहार
Sonam Puneet Dubey
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अनजाने में भी कोई गलती हो जाये
अनजाने में भी कोई गलती हो जाये
ruby kumari
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रमेशराज की तेवरी
रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
17रिश्तें
17रिश्तें
Dr Shweta sood
मुहब्बत
मुहब्बत
Dr. Upasana Pandey
*श्रम साधक *
*श्रम साधक *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Fantasies are common in this mystical world,
Fantasies are common in this mystical world,
Sukoon
जो मुस्किल में छोड़ जाए वो यार कैसा
जो मुस्किल में छोड़ जाए वो यार कैसा
Kumar lalit
चुप रहना भी तो एक हल है।
चुप रहना भी तो एक हल है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
Paras Nath Jha
विश्वास
विश्वास
विजय कुमार अग्रवाल
तुम्हारे हमारे एहसासात की है
तुम्हारे हमारे एहसासात की है
Dr fauzia Naseem shad
■ दुनिया की दुनिया जाने।
■ दुनिया की दुनिया जाने।
*Author प्रणय प्रभात*
सम्मान गुरु का कीजिए
सम्मान गुरु का कीजिए
Harminder Kaur
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
Ravi Yadav
दुनियां में मेरे सामने क्या क्या बदल गया।
दुनियां में मेरे सामने क्या क्या बदल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
तेरी इस बेवफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
तेरी इस बेवफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
Phool gufran
कवि
कवि
Pt. Brajesh Kumar Nayak
विषय -घर
विषय -घर
rekha mohan
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हार मानूंगा नही।
हार मानूंगा नही।
Rj Anand Prajapati
Lamhon ki ek kitab hain jindagi ,sanso aur khayalo ka hisab
Lamhon ki ek kitab hain jindagi ,sanso aur khayalo ka hisab
Sampada
"खेलों के महत्तम से"
Dr. Kishan tandon kranti
तात
तात
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
Loading...