Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2022 · 1 min read

दीपक

हिन्दी काव्य-रचना संख्या: 239.
शीर्षक: “दीपक”
(रविवार, 28 अक्तूबर 2007)
———————————–
मन में विश्वास जगाए दीपक,
ईक आश नई जगाए दीपक |
शाम ढले तो आए दीपक,
हवा चले तो घबराए दीपक ।।
मैं थका तो हूँ
पर हारा नहीं
सुखद अहसास जगाए दीपक।
राह अंधेरी
जगमग हो मंजिल
पथ-प्रदर्शक बन जाए दीपक।।
खुद को मिटा
औरों की खातिर
जीना-मरना सिखाए दीपक।
परवानों का प्रेम देख
शीतल अग्न जलाए दीपक।।
घर – आँगन महकाए दीपक,
सूरज जगा फिर जाए दीपक |
शाम ढले तो आए दीपक
सबको सीख सिखाए दीपक।।

– सुनील सैनी “सीना”
राम नगर, रोहतक रोड़, जीन्द (हरियाणा)-१२६१०२.

2 Likes · 188 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"राबता" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"समय का भरोसा नहीं है इसलिए जब तक जिंदगी है तब तक उदारता, वि
डॉ कुलदीपसिंह सिसोदिया कुंदन
पत्नी (दोहावली)
पत्नी (दोहावली)
Subhash Singhai
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
एक तिरंगा मुझको ला दो
एक तिरंगा मुझको ला दो
लक्ष्मी सिंह
गुस्सा सातवें आसमान पर था
गुस्सा सातवें आसमान पर था
सिद्धार्थ गोरखपुरी
झूठ बोलते हैं वो,जो कहते हैं,
झूठ बोलते हैं वो,जो कहते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
Mystical Love
Mystical Love
Sidhartha Mishra
खून पसीने में हो कर तर बैठ गया
खून पसीने में हो कर तर बैठ गया
अरशद रसूल बदायूंनी
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सियासत नहीं रही अब शरीफों का काम ।
सियासत नहीं रही अब शरीफों का काम ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
"वक्त के साथ"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं ....
मैं ....
sushil sarna
ज़िंदगी जीने के लिये क्या चाहिए.!
ज़िंदगी जीने के लिये क्या चाहिए.!
शेखर सिंह
क्या लिखते हो ?
क्या लिखते हो ?
Atul "Krishn"
किसी ने आंखें बंद की,
किसी ने आंखें बंद की,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मां नही भूलती
मां नही भूलती
Anjana banda
*याद है  हमको हमारा  जमाना*
*याद है हमको हमारा जमाना*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
#शर्माजीकेशब्द
#शर्माजीकेशब्द
pravin sharma
सच
सच
Sanjeev Kumar mishra
■ भय का कारोबार...
■ भय का कारोबार...
*प्रणय प्रभात*
तुम जो कहते हो प्यार लिखूं मैं,
तुम जो कहते हो प्यार लिखूं मैं,
Manoj Mahato
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
Rj Anand Prajapati
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Pratibha Pandey
उनको मेरा नमन है जो सरहद पर खड़े हैं।
उनको मेरा नमन है जो सरहद पर खड़े हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मूर्ती माँ तू ममता की
मूर्ती माँ तू ममता की
Basant Bhagawan Roy
यादों पर एक नज्म लिखेंगें
यादों पर एक नज्म लिखेंगें
Shweta Soni
2670.*पूर्णिका*
2670.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं पुरखों के घर आया था
मैं पुरखों के घर आया था
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...