Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Nov 2023 · 1 min read

दिवाली व होली में वार्तालाप

होली बोली दिवाली से,त्योहारों में हम ही जलते है |
मुझ में लकड़ियाँ,तेरे में मिट्टी वाले दीपक जलते है ||

मै पूर्णिमा को, तुम अमाश्या को मनाई जाती हो |
मै ग्रीष्म का,तुम शरद ऋतु का स्वागत करती हो ||

तेरे समय में,फुलझड़ियाँ,पटाखे छोड़े जाते है |
मेरे समय में,रंग बिरंगे गुब्बारे फोड़े जाते है ||

दिवाली में गाल लाली से ,होली में रंगो से रंगे जाते हैं |
दोनों ही त्योहारों में,गोरी के ही लाल गाल रंगे जाते है ||

मुझ में भंग घुटती है,तुझ में सबकी जेबे लूटती है |
मुझ में अंगिया भीगती है,तुझ में मांगे सजती है ||

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 97 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
मौसम का मिजाज़ अलबेला
मौसम का मिजाज़ अलबेला
Buddha Prakash
हर व्यक्ति की कोई ना कोई कमजोरी होती है। अगर उसका पता लगाया
हर व्यक्ति की कोई ना कोई कमजोरी होती है। अगर उसका पता लगाया
Radhakishan R. Mundhra
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
DrLakshman Jha Parimal
■ इलाज बस एक ही...
■ इलाज बस एक ही...
*Author प्रणय प्रभात*
सोई गहरी नींदों में
सोई गहरी नींदों में
Anju ( Ojhal )
साँप और इंसान
साँप और इंसान
Prakash Chandra
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Aadarsh Dubey
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – बाल्यकाल और नया पड़ाव – 02
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – बाल्यकाल और नया पड़ाव – 02
Sadhavi Sonarkar
तेरी मधुर यादें
तेरी मधुर यादें
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
सरकारी
सरकारी
Lalit Singh thakur
प्यार का रिश्ता
प्यार का रिश्ता
Surinder blackpen
समय
समय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*यहाँ पर आजकल होती हैं ,बस बाजार की बातें ( हिंदी गजल/गीतिक
*यहाँ पर आजकल होती हैं ,बस बाजार की बातें ( हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
मायड़ भौम रो सुख
मायड़ भौम रो सुख
लक्की सिंह चौहान
आधुनिक युग में हम सभी जानते हैं।
आधुनिक युग में हम सभी जानते हैं।
Neeraj Agarwal
गाडगे पुण्यतिथि
गाडगे पुण्यतिथि
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
चलो मिलते हैं पहाड़ों में,एक खूबसूरत शाम से
चलो मिलते हैं पहाड़ों में,एक खूबसूरत शाम से
पूर्वार्थ
माँ की करते हम भक्ति,  माँ कि शक्ति अपार
माँ की करते हम भक्ति, माँ कि शक्ति अपार
Anil chobisa
Experience Life
Experience Life
Saransh Singh 'Priyam'
अलग अलग से बोल
अलग अलग से बोल
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
कवि दीपक बवेजा
बहुतेरा है
बहुतेरा है
Dr. Meenakshi Sharma
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
रुक्मिणी संदेश
रुक्मिणी संदेश
Rekha Drolia
स्वप्न लोक के खिलौने - दीपक नीलपदम्
स्वप्न लोक के खिलौने - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
गरजता है, बरसता है, तड़पता है, फिर रोता है
गरजता है, बरसता है, तड़पता है, फिर रोता है
Suryakant Dwivedi
प्रभु राम मेरे सपने मे आये संग मे सीता माँ को लाये
प्रभु राम मेरे सपने मे आये संग मे सीता माँ को लाये
Satyaveer vaishnav
2856.*पूर्णिका*
2856.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ना आसमान सरकेगा ना जमीन खिसकेगी।
ना आसमान सरकेगा ना जमीन खिसकेगी।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
रमेशराज की 3 तेवरियाँ
रमेशराज की 3 तेवरियाँ
कवि रमेशराज
Loading...