Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Apr 2024 · 1 min read

दिल को लगाया है ,तुझसे सनम , रहेंगे जुदा ना ,ना बिछुड़ेंगे

दिल को लगाया है ,तुझसे सनम , रहेंगे जुदा ना ,ना बिछुड़ेंगे हम !
चाहे करे हमपे , जमाना सितम ,मिलते रहेंगे हमसब, सातों जनम !!
@ डॉ लक्ष्मण झा परिमल

112 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
_सुविचार_
_सुविचार_
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
बिन बुलाए कभी जो ना जाता कही
बिन बुलाए कभी जो ना जाता कही
कृष्णकांत गुर्जर
बेरोजगारी
बेरोजगारी
साहित्य गौरव
सूर्ययान आदित्य एल 1
सूर्ययान आदित्य एल 1
Mukesh Kumar Sonkar
ख़्वाब आंखों में टूट जाते है
ख़्वाब आंखों में टूट जाते है
Dr fauzia Naseem shad
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
दिल की बात
दिल की बात
Bodhisatva kastooriya
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
Rj Anand Prajapati
इतनी धूल और सीमेंट है शहरों की हवाओं में आजकल
इतनी धूल और सीमेंट है शहरों की हवाओं में आजकल
शेखर सिंह
वो हमसे पराये हो गये
वो हमसे पराये हो गये
Dr. Man Mohan Krishna
कभी सोचा हमने !
कभी सोचा हमने !
Dr. Upasana Pandey
"सच्चाई"
Dr. Kishan tandon kranti
दोस्ती
दोस्ती
Kanchan Alok Malu
# विचार
# विचार
DrLakshman Jha Parimal
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
दिल का हाल
दिल का हाल
पूर्वार्थ
तुम हासिल ही हो जाओ
तुम हासिल ही हो जाओ
हिमांशु Kulshrestha
जब हम सोचते हैं कि हमने कुछ सार्थक किया है तो हमें खुद पर गर
जब हम सोचते हैं कि हमने कुछ सार्थक किया है तो हमें खुद पर गर
ललकार भारद्वाज
2839.*पूर्णिका*
2839.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हरकत में आयी धरा...
हरकत में आयी धरा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Shyam Sundar Subramanian
फूल कुदरत का उपहार
फूल कुदरत का उपहार
Harish Chandra Pande
■ सोच लेना...
■ सोच लेना...
*प्रणय प्रभात*
* मिल बढ़ो आगे *
* मिल बढ़ो आगे *
surenderpal vaidya
तुझसा कोई प्यारा नहीं
तुझसा कोई प्यारा नहीं
Mamta Rani
छल
छल
गौरव बाबा
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी पुस्तक
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी पुस्तक " जिंदगी के मोड़ पर " : एक अध्ययन
Ravi Prakash
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
Jyoti Khari
उससे तू ना कर, बात ऐसी कभी अब
उससे तू ना कर, बात ऐसी कभी अब
gurudeenverma198
Loading...