Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2022 · 1 min read

दिल की ये आरजू है

दिल की ये आरजू है
कि कोई मिले,
सुंदर, सुशील,
भारतीय नारी,
जो बोलती हो अंग्रेजी,
पहनती हो साड़ी,
दिखती हो मर्लिन मुनरो जैसी,
पर हो ब्रह्मचारी;
सबके साथ मोहब्बत बरते,
न हो किसी से वैर,
घर का सारा काम खत्म कर,
दबाए बड़ों के पैर,
पढ़ी-लिखी हो,ऑफिस जाए,
घर का सारा खर्च उठाए,
पार्ट टाइम बुटीक चलाए,
गौ-सेवा में हाथ बंँटाए;
हो इतनी सुंदर,
कि देख
मन लट्टू हो जाए,
पकाए तीखा, चटपटा,
मीठे में, रबड़ी के साथ
दो-चार लड्डू हो जाए।

मौलिक व स्वरचित
©® श्री रमण
बेगूसराय (बिहार)

8 Likes · 10 Comments · 509 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
View all
You may also like:
शिर ऊँचा कर
शिर ऊँचा कर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
सिर्फ लिखती नही कविता,कलम को कागज़ पर चलाने के लिए //
सिर्फ लिखती नही कविता,कलम को कागज़ पर चलाने के लिए //
गुप्तरत्न
‘ विरोधरस ‘---4. ‘विरोध-रस’ के अन्य आलम्बन- +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---4. ‘विरोध-रस’ के अन्य आलम्बन- +रमेशराज
कवि रमेशराज
From dust to diamond.
From dust to diamond.
Manisha Manjari
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्राण दंडक छंद
प्राण दंडक छंद
Sushila joshi
Friend
Friend
Saraswati Bajpai
उम्र के हर पड़ाव पर
उम्र के हर पड़ाव पर
Surinder blackpen
जाति बनाने वालों काहे बनाई तुमने जाति ?
जाति बनाने वालों काहे बनाई तुमने जाति ?
शेखर सिंह
हाथ माखन होठ बंशी से सजाया आपने।
हाथ माखन होठ बंशी से सजाया आपने।
लक्ष्मी सिंह
मन के सवालों का जवाब नही
मन के सवालों का जवाब नही
भरत कुमार सोलंकी
बदल गया जमाना🌏🙅🌐
बदल गया जमाना🌏🙅🌐
डॉ० रोहित कौशिक
आदमी चिकना घड़ा है...
आदमी चिकना घड़ा है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हो सके तो मुझे भूल जाओ
हो सके तो मुझे भूल जाओ
Shekhar Chandra Mitra
■ आज का शेर-
■ आज का शेर-
*प्रणय प्रभात*
शायरी 2
शायरी 2
SURYA PRAKASH SHARMA
"लाभ का लोभ"
पंकज कुमार कर्ण
लोग रिश्ते या शादियों के लिए सेल्फ इंडिपेंडेसी और सेल्फ एक्च
लोग रिश्ते या शादियों के लिए सेल्फ इंडिपेंडेसी और सेल्फ एक्च
पूर्वार्थ
“कवि की कविता”
“कवि की कविता”
DrLakshman Jha Parimal
वायदे के बाद भी
वायदे के बाद भी
Atul "Krishn"
मोहब्बत के बारे में तू कोई, अंदाजा मत लगा,
मोहब्बत के बारे में तू कोई, अंदाजा मत लगा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
******** प्रेरणा-गीत *******
******** प्रेरणा-गीत *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नशा
नशा
Mamta Rani
मेरे अल्फ़ाज़
मेरे अल्फ़ाज़
Dr fauzia Naseem shad
221/2121/1221/212
221/2121/1221/212
सत्य कुमार प्रेमी
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
क्या अब भी तुम न बोलोगी
क्या अब भी तुम न बोलोगी
Rekha Drolia
दिहाड़ी मजदूर
दिहाड़ी मजदूर
Satish Srijan
23/10.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/10.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...