Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2022 · 1 min read

दिल की ये आरजू है

दिल की ये आरजू है
कि कोई मिले,
सुंदर, सुशील,
भारतीय नारी,
जो बोलती हो अंग्रेजी,
पहनती हो साड़ी,
दिखती हो मर्लिन मुनरो जैसी,
पर हो ब्रह्मचारी;
सबके साथ मोहब्बत बरते,
न हो किसी से वैर,
घर का सारा काम खत्म कर,
दबाए बड़ों के पैर,
पढ़ी-लिखी हो,ऑफिस जाए,
घर का सारा खर्च उठाए,
पार्ट टाइम बुटीक चलाए,
गौ-सेवा में हाथ बंँटाए;
हो इतनी सुंदर,
कि देख
मन लट्टू हो जाए,
पकाए तीखा, चटपटा,
मीठे में, रबड़ी के साथ
दो-चार लड्डू हो जाए।

मौलिक व स्वरचित
©® श्री रमण
बेगूसराय (बिहार)

8 Likes · 10 Comments · 335 Views
You may also like:
एक झूठा और ब्रह्म सत्य
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
मेरे दिल के करीब
Dr fauzia Naseem shad
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
Buddha Prakash
पढ़ना और पढ़ाना है
kumar Deepak "Mani"
गाँधी जी की अंगूठी (काव्य)
Ravi Prakash
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग८]
Anamika Singh
सबूत
Dr.Priya Soni Khare
उसकी आँखों के दर्द ने मुझे, अपने अतीत का अक्स...
Manisha Manjari
कवि के उर में जब भाव भरे
लक्ष्मी सिंह
इश्क की तपिश
Seema 'Tu hai na'
Karoge kadar khudki tab 🙏
Nupur Pathak
देश के नौजवान
Shekhar Chandra Mitra
गुरु नानक का जन्मदिन
सत्य भूषण शर्मा
- मेरे अपनो ने किया मेरा जीवन हलाहल -
bharat gehlot
कुंडलिया छंद की विकास यात्रा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
खामों खां
Taj Mohammad
गुरुकुल शिक्षा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रोती 'हिंदी'-बिलखती 'भाषा'
पंकज कुमार कर्ण
फैल गया काजल
Rashmi Sanjay
विभाजन की पीड़ा
ओनिका सेतिया 'अनु '
रक्षाबंधन भाई बहन का त्योहार
Ram Krishan Rastogi
जन्मदिन की बधाई
DrLakshman Jha Parimal
जिंदगी की डगर में मुझको
gurudeenverma198
भूल जाते हो
shabina. Naaz
पंछी ने एक दिन उड़ जाना है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
देव उठनी एकादशी/
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्यार को प्यार ही रहने दो कोई नाम न दो...
डॉ. एम. फ़ीरोज़ ख़ान
Writing Challenge- रहस्य (Mystery)
Sahityapedia
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
Loading...