Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2022 · 1 min read

दिल की बात

विश्व हृदय दिवस
❤❤❤❤❤
आओ हमसब मिलकर के दिल से दिल की बात करें।

प्यार मोहब्बत इश्क़ सभी दिल से आत्मसात करें।

दिल न किसी का दुखे कभी बस इतना सा ध्यान रहे,

दिल से चाहने वालों संग कभी न कोई घात करें।
-रमाकान्त चौधरी
उत्तर प्रदेश

4 Likes · 3 Comments · 297 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी कंही ठहरी सी
जिंदगी कंही ठहरी सी
A🇨🇭maanush
*पहचान* – अहोभाग्य
*पहचान* – अहोभाग्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ये आकांक्षाओं की श्रृंखला।
ये आकांक्षाओं की श्रृंखला।
Manisha Manjari
क्या सितारों को तका है - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
क्या सितारों को तका है - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
जगदीश शर्मा सहज
"रात यूं नहीं बड़ी है"
ज़ैद बलियावी
मेरी जिंदगी
मेरी जिंदगी
ओनिका सेतिया 'अनु '
नई शुरुआत
नई शुरुआत
Neeraj Agarwal
हिंदू कौन?
हिंदू कौन?
Sanjay ' शून्य'
■ मुक्तक-
■ मुक्तक-
*प्रणय प्रभात*
"सब्र"
Dr. Kishan tandon kranti
काम पर जाती हुई स्त्रियाँ..
काम पर जाती हुई स्त्रियाँ..
Shweta Soni
मजदूर की बरसात
मजदूर की बरसात
goutam shaw
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है...
जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है...
Radhakishan R. Mundhra
सैनिक
सैनिक
Mamta Rani
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
चाहत है बहुत उनसे कहने में डर लगता हैं
चाहत है बहुत उनसे कहने में डर लगता हैं
Jitendra Chhonkar
प्यार ना सही पर कुछ तो था तेरे मेरे दरमियान,
प्यार ना सही पर कुछ तो था तेरे मेरे दरमियान,
Vishal babu (vishu)
3465🌷 *पूर्णिका* 🌷
3465🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
हिन्दी की दशा
हिन्दी की दशा
श्याम लाल धानिया
जीवन संग्राम के पल
जीवन संग्राम के पल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बच्चों को बच्चा रहने दो
बच्चों को बच्चा रहने दो
Manu Vashistha
* तुगलकी फरमान*
* तुगलकी फरमान*
Dushyant Kumar
"ईश्वर की गति"
Ashokatv
विश्व सिंधु की अविरल लहरों पर
विश्व सिंधु की अविरल लहरों पर
Neelam Sharma
تونے جنت کے حسیں خواب دکھائے جب سے
تونے جنت کے حسیں خواب دکھائے جب سے
Sarfaraz Ahmed Aasee
हमें लगा  कि वो, गए-गुजरे निकले
हमें लगा कि वो, गए-गुजरे निकले
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
उर्वशी की ‘मी टू’
उर्वशी की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
" नैना हुए रतनार "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
Loading...