Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2018 · 1 min read

दिल्ली

दिल्ली क्यो बिल्ली बनी, सहती नित प्रति घात।
पाक, चीन जो आज कल, कुत्ता से गुर्रात।।
कुत्ता से गुर्रात, बात नित करत कड़ी है।
करे मधुर नहीं बात, घात की तकत घड़ी है।।
स्नेही सिर मोर, शेर दिल बनकर बिल्ली।
सीमा पर घुसपैठ, रात दिन देखे दिल्ली।।

214 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माफिया
माफिया
Sanjay ' शून्य'
मुक्तक... छंद मनमोहन
मुक्तक... छंद मनमोहन
डॉ.सीमा अग्रवाल
भोले नाथ तेरी सदा ही जय
भोले नाथ तेरी सदा ही जय
नेताम आर सी
प्राकृतिक सौंदर्य
प्राकृतिक सौंदर्य
Neeraj Agarwal
पुष्प रुष्ट सब हो गये,
पुष्प रुष्ट सब हो गये,
sushil sarna
23/120.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/120.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ इस ज़माने में...
■ इस ज़माने में...
*प्रणय प्रभात*
टूटा हुआ ख़्वाब हूॅ॑ मैं
टूटा हुआ ख़्वाब हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
कितना गलत कितना सही
कितना गलत कितना सही
Dr. Kishan tandon kranti
जादुई गज़लों का असर पड़ा है तेरी हसीं निगाहों पर,
जादुई गज़लों का असर पड़ा है तेरी हसीं निगाहों पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ध्यान
ध्यान
Monika Verma
दर्द का बस
दर्द का बस
Dr fauzia Naseem shad
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
नया मोड़
नया मोड़
Shashi Mahajan
ए'लान - ए - जंग
ए'लान - ए - जंग
Shyam Sundar Subramanian
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
Paras Nath Jha
तेरे दरबार आया हूँ
तेरे दरबार आया हूँ
Basant Bhagawan Roy
!! मैं उसको ढूंढ रहा हूँ !!
!! मैं उसको ढूंढ रहा हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
जब कोई साथ नहीं जाएगा
जब कोई साथ नहीं जाएगा
KAJAL NAGAR
25. *पलभर में*
25. *पलभर में*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
जीवन और रंग
जीवन और रंग
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*साला-साली मानिए ,सारे गुण की खान (हास्य कुंडलिया)*
*साला-साली मानिए ,सारे गुण की खान (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
प्रोटोकॉल
प्रोटोकॉल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चंडीगढ़ का रॉक गार्डेन
चंडीगढ़ का रॉक गार्डेन
Satish Srijan
गुरु की महिमा
गुरु की महिमा
Dr.Priya Soni Khare
राना लिधौरी के बुंदेली दोहे बिषय-खिलकट (झिक्की)
राना लिधौरी के बुंदेली दोहे बिषय-खिलकट (झिक्की)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
**** बातें दिल की ****
**** बातें दिल की ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पेड़ और नदी की गश्त
पेड़ और नदी की गश्त
Anil Kumar Mishra
अबस ही डर रहा था अब तलक मैं
अबस ही डर रहा था अब तलक मैं
Neeraj Naveed
* नाम रुकने का नहीं *
* नाम रुकने का नहीं *
surenderpal vaidya
Loading...