Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2022 · 1 min read

दिया और हवा

मै तो वो दिया था
जो अँधेरे से लड़ने चला था
कर अँधेरे को रोशन
उसे भी रोशनी देने चला था
पर यह बात हवा को रास नही आई
लग गई वह हमें बुझाने मे
शायद उसे अँधेरे मे रोशनी नही भाई।
~अनामिका

2 Likes · 2 Comments · 413 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुरली कि धुन
मुरली कि धुन
Anil chobisa
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी
Dr MusafiR BaithA
क्यों छोड़ गए तन्हा
क्यों छोड़ गए तन्हा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
■ गीत / कहाँ अब गाँव रहे हैं गाँव?
■ गीत / कहाँ अब गाँव रहे हैं गाँव?
*Author प्रणय प्रभात*
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️☁️🌄🌥️
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️☁️🌄🌥️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नियति
नियति
Shyam Sundar Subramanian
हम मुहब्बत कर रहे थे........
हम मुहब्बत कर रहे थे........
shabina. Naaz
जब अन्तस में घिरी हो, दुख की घटा अटूट,
जब अन्तस में घिरी हो, दुख की घटा अटूट,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
साहसी बच्चे
साहसी बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*Success_Your_Goal*
*Success_Your_Goal*
Manoj Kushwaha PS
क्यूँ ये मन फाग के राग में हो जाता है मगन
क्यूँ ये मन फाग के राग में हो जाता है मगन
Atul "Krishn"
सरस्वती बुआ जी की याद में
सरस्वती बुआ जी की याद में
Ravi Prakash
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
Manisha Manjari
रूपेश को मिला
रूपेश को मिला "बेस्ट राईटर ऑफ द वीक सम्मान- 2023"
रुपेश कुमार
आधुनिक युग और नशा
आधुनिक युग और नशा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रिश्ता कभी खत्म नहीं होता
रिश्ता कभी खत्म नहीं होता
Ranjeet kumar patre
नशा
नशा
Ram Krishan Rastogi
बड़े ही फक्र से बनाया है
बड़े ही फक्र से बनाया है
VINOD CHAUHAN
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
खेल खिलाड़ी
खेल खिलाड़ी
Mahender Singh Manu
गुलामी के कारण
गुलामी के कारण
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
वेलेंटाइन डे बिना विवाह के सुहागरात के समान है।
वेलेंटाइन डे बिना विवाह के सुहागरात के समान है।
Rj Anand Prajapati
सीने का समंदर, अब क्या बताऊ तुम्हें
सीने का समंदर, अब क्या बताऊ तुम्हें
The_dk_poetry
एक दिन
एक दिन
Harish Chandra Pande
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
Kumar lalit
मोदी एक महानायक
मोदी एक महानायक
Sueta Dutt Chaudhary Fiji
2936.*पूर्णिका*
2936.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बहुत याद आती है
बहुत याद आती है
नन्दलाल सुथार "राही"
Loading...