Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Oct 2023 · 1 min read

दिन आज आखिरी है, खत्म होते साल में

दिन आज आखिरी है, खत्म होते साल में।
होगा सफर अब नया शुरु, आते नये साल में।।
दिन आज आखिरी है ————————।।

लड़ चुके हैं हम बहुत, अब आपस में हम लड़े नहीं।
तोहफा सभी को दे दोस्ती का, हम नये साल में।
दिन आज आखिरी है—————————–।।

धरती को स्वर्ग बनाने का, हम सभी संकल्प ले।
साकार हो स्वप्न सभी के, आते नये साल में।।
दिन आज आखिरी है—————————।।

मतलबी होकर हमने, बेच दिया है प्यार- ईमान।
धर्म का सूरज हो उदय,धरती पर नये साल में।।
दिन आज आखिरी है ————————।।

सन्तोष और सब्र दवा है, दिल के सभी दर्दों की।
आवो अमन का दे सन्देश, वतन में नये साल में।।
दिन आज आखिरी है ————————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
135 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*छाई है छवि राम की, दुनिया में चहुॅं ओर (कुंडलिया)*
*छाई है छवि राम की, दुनिया में चहुॅं ओर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हवायें तितलियों के पर काट लेती हैं
हवायें तितलियों के पर काट लेती हैं
कवि दीपक बवेजा
"दिल का हाल सुने दिल वाला"
Pushpraj Anant
अकेला खुदको पाता हूँ.
अकेला खुदको पाता हूँ.
Naushaba Suriya
लीजिए प्रेम का अवलंब
लीजिए प्रेम का अवलंब
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सत्कर्म करें
सत्कर्म करें
Sanjay ' शून्य'
तुम
तुम
Tarkeshwari 'sudhi'
💐प्रेम कौतुक-165💐
💐प्रेम कौतुक-165💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तेरी चाहत का कैदी
तेरी चाहत का कैदी
N.ksahu0007@writer
नींद
नींद
Diwakar Mahto
दूसरों की आलोचना
दूसरों की आलोचना
Dr.Rashmi Mishra
कहाॅं तुम पौन हो।
कहाॅं तुम पौन हो।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
ललकार भारद्वाज
तुम मेरे हो
तुम मेरे हो
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
आया यह मृदु - गीत कहाँ से!
आया यह मृदु - गीत कहाँ से!
Anil Mishra Prahari
मोहब्बत का ज़माना आ गया है
मोहब्बत का ज़माना आ गया है
Surinder blackpen
■ संडे इज द फन-डे
■ संडे इज द फन-डे
*Author प्रणय प्रभात*
पूछ लेना नींद क्यों नहीं आती है
पूछ लेना नींद क्यों नहीं आती है
पूर्वार्थ
यह कौन सी तहजीब है, है कौन सी अदा
यह कौन सी तहजीब है, है कौन सी अदा
VINOD CHAUHAN
अगर कोई अच्छा खासा अवगुण है तो लोगों की उम्मीद होगी आप उस अव
अगर कोई अच्छा खासा अवगुण है तो लोगों की उम्मीद होगी आप उस अव
Dr. Rajeev Jain
चाहत नहीं और इसके सिवा, इस घर में हमेशा प्यार रहे
चाहत नहीं और इसके सिवा, इस घर में हमेशा प्यार रहे
gurudeenverma198
खुद को तलाशना और तराशना
खुद को तलाशना और तराशना
Manoj Mahato
ईश्वर
ईश्वर
Neeraj Agarwal
"नया दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
ज्ञानों का महा संगम
ज्ञानों का महा संगम
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
Shivkumar Bilagrami
मेरे जब से सवाल कम हैं
मेरे जब से सवाल कम हैं
Dr. Mohit Gupta
संस्कृत के आँचल की बेटी
संस्कृत के आँचल की बेटी
Er.Navaneet R Shandily
ये नज़रें
ये नज़रें
Shyam Sundar Subramanian
Loading...