Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Dec 2023 · 1 min read

दिखा दूंगा जहाँ को जो मेरी आँखों ने देखा है!!

दिखा दूंगा जहाँ को जो मेरी आँखों ने देखा है!!

तुझे भी सूरत ए आइना हैरान करके छोडूंगा!!

144 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हवेली का दर्द
हवेली का दर्द
Atul "Krishn"
सच तो रोशनी का आना हैं
सच तो रोशनी का आना हैं
Neeraj Agarwal
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
Dr MusafiR BaithA
कैसा हो रामराज्य
कैसा हो रामराज्य
Rajesh Tiwari
हमे यार देशी पिला दो किसी दिन।
हमे यार देशी पिला दो किसी दिन।
विजय कुमार नामदेव
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
हम कितने आजाद
हम कितने आजाद
लक्ष्मी सिंह
रास्ते फूँक -फूँककर चलता  है
रास्ते फूँक -फूँककर चलता है
Anil Mishra Prahari
दीपावली की असीम शुभकामनाओं सहित अर्ज किया है ------
दीपावली की असीम शुभकामनाओं सहित अर्ज किया है ------
सिद्धार्थ गोरखपुरी
2561.पूर्णिका
2561.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गाय
गाय
Vedha Singh
💐अज्ञात के प्रति-69💐
💐अज्ञात के प्रति-69💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रामायण में भाभी
रामायण में भाभी "माँ" के समान और महाभारत में भाभी "पत्नी" के
शेखर सिंह
***कृष्णा ***
***कृष्णा ***
Kavita Chouhan
Remeber if someone truly value you  they will always carve o
Remeber if someone truly value you they will always carve o
पूर्वार्थ
इक इक करके सारे पर कुतर डाले
इक इक करके सारे पर कुतर डाले
ruby kumari
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
VINOD CHAUHAN
★गहने ★
★गहने ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
बुढापे की लाठी
बुढापे की लाठी
Suryakant Dwivedi
जो समय सम्मुख हमारे आज है।
जो समय सम्मुख हमारे आज है।
surenderpal vaidya
6. शहर पुराना
6. शहर पुराना
Rajeev Dutta
*दादा जी डगमग चलते हैं (बाल कविता)*
*दादा जी डगमग चलते हैं (बाल कविता)*
Ravi Prakash
बेख़बर
बेख़बर
Shyam Sundar Subramanian
आता है उनको मजा क्या
आता है उनको मजा क्या
gurudeenverma198
आंखन तिमिर बढ़ा,
आंखन तिमिर बढ़ा,
Mahender Singh
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
Rj Anand Prajapati
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
■ आज का क़तआ (मुक्तक)
■ आज का क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
समाप्त वर्ष 2023 मे अगर मैने किसी का मन व्यवहार वाणी से किसी
समाप्त वर्ष 2023 मे अगर मैने किसी का मन व्यवहार वाणी से किसी
Ranjeet kumar patre
तुझे स्पर्श न कर पाई
तुझे स्पर्श न कर पाई
Dr fauzia Naseem shad
Loading...