Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2023 · 1 min read

दिखावा

जब हमें अपने अन्दर किसी भी चीज की प्रधानता अधिक महशूस होती है या होने लगती है तो हम उसका दिखावा अधिक करने लगते है या हम कह सकते है कि उसे हम समाज के सामने अधिक प्रकट करने लगते है। लेकिन वो हमारी ही नजरों में ही अधिक है। वह हमें स्वयं को ही अधिक महशूस होता या ज्यादा महशूस हो रहा होता है। चाहे वह हमारे अन्दर मौजूद अन्य गुणों से कम हो लेकिन हमें यह लगाता है कि वह हममें अधिक है। हमने उसका दूसरों के सामने दिखावा करना शुरू कर दिया। चाहे वह हममें सबसे कम क्यों ना हो। चाहे वह सुन्दरता हो ,सुन्दर बाॅडी हो या ज्ञान हो,चालाकी हो,ताकत हो या फिर अन्य गुण। चाहे वह स्वयं ही प्रकट हो रहा हो। लेकिन जब उसका अहसास हमें स्वयं को होता है। चाहे हमारे अन्दर वह सबसे कम हो। हम सर्वाधिक दिखावा तब ही करते है। जब हमें वह खुद महशूस होता है।….
🥀Swami ganganiya🥀

Language: Hindi
222 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
-आगे ही है बढ़ना
-आगे ही है बढ़ना
Seema gupta,Alwar
3. कुपमंडक
3. कुपमंडक
Rajeev Dutta
मौन सभी
मौन सभी
sushil sarna
इस मुस्कुराते चेहरे की सुर्ख रंगत पर न जा,
इस मुस्कुराते चेहरे की सुर्ख रंगत पर न जा,
डी. के. निवातिया
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
कवि रमेशराज
आप वक्त को थोड़ा वक्त दीजिए वह आपका वक्त बदल देगा ।।
आप वक्त को थोड़ा वक्त दीजिए वह आपका वक्त बदल देगा ।।
Lokesh Sharma
कहो कैसे वहाँ हो तुम
कहो कैसे वहाँ हो तुम
gurudeenverma198
हिंदुस्तान जिंदाबाद
हिंदुस्तान जिंदाबाद
Aman Kumar Holy
गौरेया (ताटंक छन्द)
गौरेया (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
ताटंक कुकुभ लावणी छंद और विधाएँ
ताटंक कुकुभ लावणी छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
दिखाने लगे
दिखाने लगे
surenderpal vaidya
सत्य क्या है?
सत्य क्या है?
Vandna thakur
*त्रिशूल (बाल कविता)*
*त्रिशूल (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कदम भले थक जाएं,
कदम भले थक जाएं,
Sunil Maheshwari
मनुष्य की महत्ता
मनुष्य की महत्ता
ओंकार मिश्र
नज़ाकत को शराफ़त से हरा दो तो तुम्हें जानें
नज़ाकत को शराफ़त से हरा दो तो तुम्हें जानें
आर.एस. 'प्रीतम'
हौसले से जग जीतता रहा
हौसले से जग जीतता रहा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बेडी परतंत्रता की 🙏
बेडी परतंत्रता की 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
Sahil Ahmad
सम्मान
सम्मान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
सजदे में झुकते तो हैं सर आज भी, पर मन्नतें मांगीं नहीं जातीं।
सजदे में झुकते तो हैं सर आज भी, पर मन्नतें मांगीं नहीं जातीं।
Manisha Manjari
जिंदगी बंद दरवाजा की तरह है
जिंदगी बंद दरवाजा की तरह है
Harminder Kaur
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
'अशांत' शेखर
तुझसे लिपटी बेड़ियां
तुझसे लिपटी बेड़ियां
Sonam Puneet Dubey
मर्दुम-बेज़ारी
मर्दुम-बेज़ारी
Shyam Sundar Subramanian
मना लिया नव बर्ष, काम पर लग जाओ
मना लिया नव बर्ष, काम पर लग जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"तगादा का दर्द"
Dr. Kishan tandon kranti
■ पहले आवेदन (याचना) करो। फिर जुगाड़ लगाओ और पाओ सम्मान छाप प
■ पहले आवेदन (याचना) करो। फिर जुगाड़ लगाओ और पाओ सम्मान छाप प
*प्रणय प्रभात*
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...