Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Nov 2023 · 2 min read

दर्द

बाल कहानी- दर्द
———–

आज प्रिया बहुत खुश थी। उसकी खुशी का ठिकाना नहीं था। खुश भी क्यों न हो, उसको स्कूल में कला प्रतियोगिता में प्रथम स्थान जो मिला था। कला प्रतियोगिता में प्रथम स्थान मिलने की वज़ह से उसे बहुत सम्मान और इनाम मिला था।
प्रिया ने अपनी खुशियाँ सभी के साथ बाँटी। दोस्तों के साथ पार्टी भी की और रिश्तेदारों को दावत पर भी बुलाया।
कुछ दिन स्कूल आने के बाद प्रिया ने अचानक स्कूल आना बन्द कर दिया। अध्यापिका ने प्रिया की सहेलियों से प्रिया के स्कूल न आने की वजह पूछी तो पता चला कि प्रिया की तबियत खराब है। स्कूल की छुट्टी के बाद अध्यापिका प्रिया के घर पहुँची तो पता चला कि प्रिया हाॅस्पिटल में एडमिट है।
अध्यापिका हाॅस्पिटल पहुँची और देखा कि प्रिया अपनी माँ के गले लगकर कह रही थी कि-, “माँ! मुझे कान का आपरेशन नहीं कराना है। मुझे डर लग रहा है।”
अध्यापिका ने पता लगाया कि आखिर बात क्या है? प्रिया की माँ से पता चला कि प्रिया के कान में अचानक दर्द उठा! डॉक्टर को दिखाने पर पता चला कि कान के पर्दे में दिक्कत है। एक छोटे से आपरेशन से ठीक हो जायेगा।
अध्यापिका ने प्रिया को समझाया कि-, “प्रिया बेटे! सब ठीक हो जायेगा। तुम परेशान न हो। फिर तुम स्कूल आना और अभी तुम्हें बहुत सी प्रतियोगिताओं में भाग लेना है। आपरेशन एक ऐसा ट्रीटमेंट है, जिसके होने के बाद मरीज़ जल्द से जल्द ठीक हो जाता है। तुम तो बहादुर बिटिया हो। बहादुर बेटियाँ रोती नहीं है। मुसीबत का डटकर सामना करती हैं।”
प्रिया ने अध्यापिका की बात मानकर खुद में हिम्मत भरी और आँसू पोंछ लिये। प्रिया के कान का सफ़ल आपरेशन हुआ।
कुछ महीने बाद प्रिया पहले की तरह ठीक हो गयी और खुशी-खुशी स्कूल आने-जाने लगी।

शिक्षा-
हमें जीवन में आने वाली परेशानियों से घबराना नहीं चाहिए।

शमा परवीन
बहराइच उत्तर प्रदेश

2 Likes · 192 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गर्भपात
गर्भपात
Dr. Kishan tandon kranti
दिन ढले तो ढले
दिन ढले तो ढले
Dr.Pratibha Prakash
हैं जो कुछ स्मृतियां वो आपके दिल संग का
हैं जो कुछ स्मृतियां वो आपके दिल संग का
दीपक झा रुद्रा
झूठी है यह जिंदगी,
झूठी है यह जिंदगी,
sushil sarna
यूँही चलते है कदम बेहिसाब
यूँही चलते है कदम बेहिसाब
Vaishaligoel
राजतंत्र क ठगबंधन!
राजतंत्र क ठगबंधन!
Bodhisatva kastooriya
3281.*पूर्णिका*
3281.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ्य
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ्य
Dr.Rashmi Mishra
हिंदीग़ज़ल में होता है ऐसा ! +रमेशराज
हिंदीग़ज़ल में होता है ऐसा ! +रमेशराज
कवि रमेशराज
“दोस्त हो तो दोस्त बनो”
“दोस्त हो तो दोस्त बनो”
DrLakshman Jha Parimal
पयोनिधि नेह में घोली, मधुर सुर साज है हिंदी।
पयोनिधि नेह में घोली, मधुर सुर साज है हिंदी।
Neelam Sharma
आज कल !!
आज कल !!
Niharika Verma
*सीता जी : छह दोहे*
*सीता जी : छह दोहे*
Ravi Prakash
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कुछ परिंदें।
कुछ परिंदें।
Taj Mohammad
जुगनू
जुगनू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैंने कहा मुझे कयामत देखनी है ,
मैंने कहा मुझे कयामत देखनी है ,
Vishal babu (vishu)
वो मुझे पास लाना नही चाहता
वो मुझे पास लाना नही चाहता
कृष्णकांत गुर्जर
बड़ा काफ़िर
बड़ा काफ़िर
हिमांशु Kulshrestha
"कथा" - व्यथा की लिखना - मुश्किल है
Atul "Krishn"
मुस्कराहटों के पीछे
मुस्कराहटों के पीछे
Surinder blackpen
उत्तर नही है
उत्तर नही है
Punam Pande
सारे दुख दर्द होजाते है खाली,
सारे दुख दर्द होजाते है खाली,
Kanchan Alok Malu
कोई होटल की बिखरी ओस में भींग रहा है
कोई होटल की बिखरी ओस में भींग रहा है
Akash Yadav
मैं पर्वत हूं, फिर से जीत......✍️💥
मैं पर्वत हूं, फिर से जीत......✍️💥
Shubham Pandey (S P)
जीवन अप्रत्याशित
जीवन अप्रत्याशित
पूर्वार्थ
खोज सत्य की जारी है
खोज सत्य की जारी है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
नई जगह ढूँढ लो
नई जगह ढूँढ लो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आपसे होगा नहीं , मुझसे छोड़ा नहीं जाएगा
आपसे होगा नहीं , मुझसे छोड़ा नहीं जाएगा
Keshav kishor Kumar
तू एक फूल-सा
तू एक फूल-सा
Sunanda Chaudhary
Loading...