Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Nov 2023 · 1 min read

दिल का दर्द💔🥺

बख्श देता है खुदा उनको जिनकी किस्मत खराब होती है।
वो हरगिज नहीं बख्शे जाते है।
जिनकी नियत खराब होती है
ना मेरा एक होगा ना तेरा लाख होगा
ना तारीफ तेरी होगी ना मज़ाक मेरा होगा
गुरुर ना कर शाही शरीर का
मेरा भी खाक होगा तेरा भी खाक होगा
जिंदगीभर ब्रांडेड ब्रांडेड करने वालों
याद रखना कफ़न का कोई ब्रांड नहीं होता
कोई रोकर दिल बहलाता है और
कोई हंसके दर्द छुपाता है।
क्या कारामात है कुदरत का
जिंदा इंसान पानी में डूब जाता है और
मुर्दा तैर के दिखाता है।
मौत को देखा तो नहीं पर शायद वो बहुत खूबसूरत होगी
कमबख्त जो भी उससे मिलता है।
जीना छोड़ देता है।
गजब की एकता देखी लोगो की जमाने में
जिंदो को गिराने में और मुर्दों को उठाने में
जिंदगी में न जाने कौन सी बात आखिरी होगी
ना जाने कौन सी रात आखिरी होगी
मिलते जुलते बाते करते रहो यारों
एक दूसरे से ना जाने कौन सी
मुलाकात आखिरी होगी।😔💔

-सुधा

Language: Hindi
2 Likes · 216 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कविता ....
कविता ....
sushil sarna
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
23/02.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/02.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
shabina. Naaz
अपने
अपने
Adha Deshwal
जीवन का अंत है, पर संभावनाएं अनंत हैं
जीवन का अंत है, पर संभावनाएं अनंत हैं
Pankaj Sen
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
Ahtesham Ahmad
छह दिसबंर / MUSAFIR BAITHA
छह दिसबंर / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मैं पलट कर नही देखती अगर ऐसा कहूँगी तो झूठ कहूँगी
मैं पलट कर नही देखती अगर ऐसा कहूँगी तो झूठ कहूँगी
ruby kumari
मित्र
मित्र
लक्ष्मी सिंह
■ भारत और पाकिस्तान
■ भारत और पाकिस्तान
*Author प्रणय प्रभात*
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
Subhash Singhai
घर वापसी
घर वापसी
Aman Sinha
गर्म हवाएं चल रही, सूरज उगले आग।।
गर्म हवाएं चल रही, सूरज उगले आग।।
Manoj Mahato
मिट्टी का बदन हो गया है
मिट्टी का बदन हो गया है
Surinder blackpen
“देवभूमि क दिव्य दर्शन” मैथिली ( यात्रा -संस्मरण )
“देवभूमि क दिव्य दर्शन” मैथिली ( यात्रा -संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
जब तू मिलती है
जब तू मिलती है
gurudeenverma198
पाहन भी भगवान
पाहन भी भगवान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
नेताजी का रक्तदान
नेताजी का रक्तदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दुख वो नहीं होता,
दुख वो नहीं होता,
Vishal babu (vishu)
मुझ पर इल्जाम लगा सकते हो .... तो लगा लो
मुझ पर इल्जाम लगा सकते हो .... तो लगा लो
हरवंश हृदय
2122 1212 22/112
2122 1212 22/112
SZUBAIR KHAN KHAN
"बात पते की"
Dr. Kishan tandon kranti
दुम
दुम
Rajesh
खोखला वर्तमान
खोखला वर्तमान
Mahender Singh
जय मां ँँशारदे 🙏
जय मां ँँशारदे 🙏
Neelam Sharma
फितरत
फितरत
Dr fauzia Naseem shad
*कभी जिंदगी अच्छी लगती, कभी मरण वरदान है (गीत)*
*कभी जिंदगी अच्छी लगती, कभी मरण वरदान है (गीत)*
Ravi Prakash
बिल्ली की तो हुई सगाई
बिल्ली की तो हुई सगाई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
मुक्त पुरूष #...वो चला गया.....
मुक्त पुरूष #...वो चला गया.....
Santosh Soni
Loading...