Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Aug 2022 · 1 min read

थे गुर्जर-प्रतिहार के, सम्राट मिहिर भोज

थे गुर्जर-प्रतिहार के, सम्राट मिहिर भोज
तेज चमकता सूर्य सम, मुखमण्डल पर ओज

रहा ‘पचासी—आठ सौ’, तलक आपका राज
बने ‘छत्तीस—आठ सौ’, मिहिर जी महाराज

उत्तर में थी नर्मदा, हिम का पर्वतराज
पूरब में बंगाल तक, थे मिहिर महाराज

मिहिर भोज प्रतिहार के, शासक बड़े महान
अरबी हमले रोकते, बढ़ी राष्ट्र की शान

मिहिरभोज के राज में, उत्तम सिक्के वाह
विष्णु उपासक को मिला, नाम ‘आदिवाराह’

पुत्र महेंद्रपाल बने, राजा इनके बाद
पिताश्री रामभद्र थे, सदैव उनको याद

•••

_________________________
*सम्राट मिहिर भोज के काल के सिक्कों पर ‘आदिवाराह’ की उपाधि मिलती है, जिससे यह अनुमान लगाया जाता है कि ये विष्णु के उपासक थे।

Language: Hindi
1 Like · 451 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
कोई बात नहीं, अभी भी है बुरे
कोई बात नहीं, अभी भी है बुरे
gurudeenverma198
हस्ती
हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
वो ख्यालों में भी दिल में उतर जाएगा।
वो ख्यालों में भी दिल में उतर जाएगा।
Phool gufran
जाड़ा
जाड़ा
नूरफातिमा खातून नूरी
न जाने कहाँ फिर से, उनसे मुलाकात हो जाये
न जाने कहाँ फिर से, उनसे मुलाकात हो जाये
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मौज  कर हर रोज कर
मौज कर हर रोज कर
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मेरी माटी मेरा देश भाव
मेरी माटी मेरा देश भाव
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
वीरगति सैनिक
वीरगति सैनिक
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
" एकता "
DrLakshman Jha Parimal
किलकारी गूंजे जब बच्चे हॅंसते है।
किलकारी गूंजे जब बच्चे हॅंसते है।
सत्य कुमार प्रेमी
■ बेहद शर्मनाक...!!
■ बेहद शर्मनाक...!!
*Author प्रणय प्रभात*
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
राजनीति
राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गंगा काशी सब हैं घरही में.
गंगा काशी सब हैं घरही में.
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
दोस्ती का एहसास
दोस्ती का एहसास
Dr fauzia Naseem shad
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
Ravi Prakash
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
Ranjeet kumar patre
ममत्व की माँ
ममत्व की माँ
Raju Gajbhiye
2727.*पूर्णिका*
2727.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कस्तूरी इत्र
कस्तूरी इत्र
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बेरहमी
बेरहमी
Dr. Kishan tandon kranti
माली अकेला क्या करे ?,
माली अकेला क्या करे ?,
ओनिका सेतिया 'अनु '
रंगों का नाम जीवन की राह,
रंगों का नाम जीवन की राह,
Neeraj Agarwal
" सुन‌ सको तो सुनों "
Aarti sirsat
समरथ को नही दोष गोसाई
समरथ को नही दोष गोसाई
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तस्वीर
तस्वीर
Dr. Mahesh Kumawat
बे खुदी में सवाल करते हो
बे खुदी में सवाल करते हो
SHAMA PARVEEN
Sometimes you don't fall in love with the person, you fall f
Sometimes you don't fall in love with the person, you fall f
पूर्वार्थ
तोड देना वादा,पर कोई वादा तो कर
तोड देना वादा,पर कोई वादा तो कर
Ram Krishan Rastogi
समझदार व्यक्ति जब संबंध निभाना बंद कर दे
समझदार व्यक्ति जब संबंध निभाना बंद कर दे
शेखर सिंह
Loading...