Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Aug 2023 · 2 min read

थूंक पॉलिस

थूँक पॉलिस

स्टेट सेकेंडरी एजुकेशन बोर्ड के चेयरमैन, सेक्रेटरी और डिप्टी सेक्रेटरी एजुकेशन मिनिस्टर के पास उन्हें हायर सेकेंडरी और हाईस्कूल बोर्ड परीक्षा के औपचारिक रूप से परिणाम घोषित करने के लिए आमंत्रित करने गए। मंत्री जी ने पूछा, “कितना प्रतिशत रिजल्ट आया है इस साल ?”
बोर्ड के चेयरमैन ने बताया, “हायर सेकंडरी में 38 और हाईस्कूल में 35 प्रतिशत है।”
मंत्री जी नाराजगी व्यक्त करते हुए बोले, “करते क्या हैं आपके टीचर लोग साल भर ? सी.बी.एस.ई. और आई.सी.एस.ई. बोर्ड में हर साल रिजल्ट 95 प्रतिशत से अधिक आता है। आप लोग उसका आधा भी नहीं ला पा रहे हैं। कुछ सोचा है इस विषय में।”
केबिनेट मंत्री का दर्जा प्राप्त चेयरमैन, जो कि स्वयं बमुश्किल मिडिल पास थे, अपने आई.ए.एस. सेक्रेटरी, जिनका शिक्षा और शैक्षिक तकनीक से कोई सरोकार नहीं था, की ओर देखने लगे। सेक्रेटरी महोदय अपने साथ फाइल लेकर पहुंँचे डिप्टी सेक्रेटरी, जो कि मूलतः एक लेक्चर थे और जुगाड़ लगाकर बोर्ड में डेपुटेशन पर पोस्टेड थे, का मुंह ताकने लगे।
डिप्टी सेक्रेटरी थूँक निगलते हुए बोले, “सर, हमारे यहाँ रिजल्ट डाऊन होने का सबसे बड़ा कारण हमारा पुराना परीक्षा पैटर्न है। यदि हम इसे सी.बी.एस.ई. या आई.सी.एस.ई. बोर्ड की तर्ज पर बदल दें, तो रिजल्ट परसेंटेज अपने आप बढ़ जाएगा।”
मंत्री जी ने पूछा, “सो कैसे ?”
डिप्टी सेक्रेटरी ने बताया, “सर, हम 20 प्रतिशत मार्क्स इंटर्नल असाइनमेंट, प्रोजेक्ट, प्रैक्टिकल के नाम पर रख दें, 20 प्रतिशत वस्तुनिष्ठ प्रश्न और 10 प्रतिशत प्रश्न अति लघु उत्तरीय के कर दें, तो इस पचास प्रतिशत अंक में विद्यार्थियों को स्थानीय शिक्षकों की मदद मिल जाएगी। इस प्रकार हमारा भी रिजल्ट परसेंटेज बढ़ जाएगा।”
मंत्री जी खुश होते हुए बोले, “व्हेरी गुड। तुम इस क्षेत्र में एक अच्छा-सा अध्ययन प्रतिवेदन बना लो। सेक्रेटरी साहब, आप सेकेंडरी एजुकेशन बोर्ड की ओर से एक अध्ययन दल के गठन करने का प्रस्ताव लाइए, जो कि हाई और हायर सेकंडरी स्कूल के परीक्षा पैटर्न के अध्ययन के लिए यू.एस.ए., यू.के. स्वीटजरलैंड, सिंगापुर और भारत के अन्य राज्यों का तीन महीने के भीतर भ्रमण कर अध्ययन प्रतिवेदन प्रस्तुत करेगा। इस अध्ययन दल में हम चारों के अलावा कुछ मंत्रियों और आई.ए.एस. अफसरों के नाम भी जोड़ लीजिए। इसकी सूची हम कल आपको भिजवा देंगे।”
“ओ.के. सर।” सेक्रेटरी ने कहा।
ग्यारह सदस्यीय अध्ययन दल ने कई देश और राज्यों का भ्रमण कर अपना प्रतिवेदन प्रस्तुत किया, जिसे राज्य सरकार ने लागू किया।
परीक्षा पैटर्न में बदलाव के बाद अपेक्षित परिणाम मिलने लगे।
अब छात्र, शिक्षक, अध्यापक, सरकार सभी खुश हैं।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

95 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किसी की छोटी-छोटी बातों को भी,
किसी की छोटी-छोटी बातों को भी,
नेताम आर सी
" लक्ष्य सिर्फ परमात्मा ही हैं। "
Aryan Raj
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
Sanjay ' शून्य'
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
MEENU
शराब हो या इश्क़ हो बहकाना काम है
शराब हो या इश्क़ हो बहकाना काम है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Mannato ka silsila , abhi jari hai, ruka nahi
Mannato ka silsila , abhi jari hai, ruka nahi
Sakshi Tripathi
★डॉ देव आशीष राय सर ★
★डॉ देव आशीष राय सर ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
रोगों से है यदि  मानव तुमको बचना।
रोगों से है यदि मानव तुमको बचना।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
धूम भी मच सकती है
धूम भी मच सकती है
gurudeenverma198
* कष्ट में *
* कष्ट में *
surenderpal vaidya
*पॉंच सदी के बाद देश ने, गौरव का क्षण पाया है (मुक्तक)*
*पॉंच सदी के बाद देश ने, गौरव का क्षण पाया है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
*Perils of Poverty and a Girl child*
*Perils of Poverty and a Girl child*
Poonam Matia
प्रेरणा
प्रेरणा
पूर्वार्थ
जवानी
जवानी
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
जागो बहन जगा दे देश 🙏
जागो बहन जगा दे देश 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"बढ़ते चलो"
Dr. Kishan tandon kranti
ख़त पहुंचे भगतसिंह को
ख़त पहुंचे भगतसिंह को
Shekhar Chandra Mitra
तुम से मिलना था
तुम से मिलना था
Dr fauzia Naseem shad
15)”शिक्षक”
15)”शिक्षक”
Sapna Arora
Someone Special
Someone Special
Ram Babu Mandal
किसी आंख से आंसू टपके दिल को ये बर्दाश्त नहीं,
किसी आंख से आंसू टपके दिल को ये बर्दाश्त नहीं,
*प्रणय प्रभात*
इतने दिनों के बाद
इतने दिनों के बाद
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
प्रयास सदैव उचित और पूर्ण हो,
प्रयास सदैव उचित और पूर्ण हो,
Buddha Prakash
मिलते तो बहुत है हमे भी चाहने वाले
मिलते तो बहुत है हमे भी चाहने वाले
Kumar lalit
2609.पूर्णिका
2609.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
♥️मां ♥️
♥️मां ♥️
Vandna thakur
कांटा
कांटा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मैं हूँ के मैं अब खुद अपने ही दस्तरस में नहीं हूँ
मैं हूँ के मैं अब खुद अपने ही दस्तरस में नहीं हूँ
'अशांत' शेखर
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
उसे लगता है कि
उसे लगता है कि
Keshav kishor Kumar
Loading...