Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2016 · 1 min read

” तोड़ दो हाथ उनके , जो खतरा बनें “

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
नव सृजन कुछ करो अब चमन के लिये ।

नवजवानों उठो ~~ अरि दमन के लिये ।

तोड़ दो हाथ उनके ~~ जो’ खतरा बने ।

आज अपने वतन के ~~ अमन के लिये ।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
वीर पटेल

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
315 Views
You may also like:
Tumhara Saath chaiye ? Zindagi Bhar
Chaurasia Kundan
इस्लाम का विकृत रूप और हिंदुओं के पतन के कारण...
Pravesh Shinde
चाँद
विजय कुमार अग्रवाल
कुछ तो है उनके प्यार में
Buddha Prakash
" मोहमाया का जंजाल"
Dr Meenu Poonia
✍️मैं कुदरत का बीज हूँ✍️
'अशांत' शेखर
इधर उधर न देख तू
Shivkumar Bilagrami
सोबन का यह अर्थ है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पेन-गन (क़लम-बंदूक)
Shekhar Chandra Mitra
हे गणपति गणराज शुभंकर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आस
लक्ष्मी सिंह
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
तेरी याद
Umender kumar
वसंत का संदेश
Anamika Singh
बात
Shyam Sundar Subramanian
उठ मुसाफिर
Seema 'Tu hai na'
है मुहब्बत का उनकी असर आज भी
Dr Archana Gupta
ज़रूरत के रिश्ते निभते कहां हैं
Dr fauzia Naseem shad
चला कर तीर नज़रों से
Ram Krishan Rastogi
इन्साफ
Alok Saxena
'घायल मन'
पंकज कुमार कर्ण
*दादा जी के टूटे सारे दॉंत, पोपला मुख है (गीत)*
Ravi Prakash
अम्मा जी
Rashmi Sanjay
बापू का सत्य के साथ प्रयोग
Pooja Singh
सजा मिली है।
Taj Mohammad
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
खेसारी लाल बानी
Ranjeet Kumar
कल कह सकता है वह ऐसा
gurudeenverma198
डूब जाता हूँ
Varun Singh Gautam
हर युग में जय जय कार
जगदीश लववंशी
Loading...