Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2016 · 1 min read

” तोड़ दो हाथ उनके , जो खतरा बनें “

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
नव सृजन कुछ करो अब चमन के लिये ।

नवजवानों उठो ~~ अरि दमन के लिये ।

तोड़ दो हाथ उनके ~~ जो’ खतरा बने ।

आज अपने वतन के ~~ अमन के लिये ।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
वीर पटेल

Language: Hindi
389 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुट्ठी में आकाश ले, चल सूरज की ओर।
मुट्ठी में आकाश ले, चल सूरज की ओर।
Suryakant Dwivedi
🌹मेरे जज़्बात, मेरे अल्फ़ाज़🌹
🌹मेरे जज़्बात, मेरे अल्फ़ाज़🌹
Dr Shweta sood
दोहे
दोहे
अनिल कुमार निश्छल
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
बे-फ़िक्र ज़िंदगानी
बे-फ़िक्र ज़िंदगानी
Shyam Sundar Subramanian
बगल में कुर्सी और सामने चाय का प्याला
बगल में कुर्सी और सामने चाय का प्याला
VINOD CHAUHAN
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
SC/ST HELPLINE NUMBER 14566
SC/ST HELPLINE NUMBER 14566
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
" शिखर पर गुनगुनाओगे "
DrLakshman Jha Parimal
कभी आंख मारना कभी फ्लाइंग किस ,
कभी आंख मारना कभी फ्लाइंग किस ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
आप पाएंगे सफलता प्यार से।
आप पाएंगे सफलता प्यार से।
सत्य कुमार प्रेमी
कोई दरिया से गहरा है
कोई दरिया से गहरा है
कवि दीपक बवेजा
जब कोई बात समझ में ना आए तो वक्त हालात पर ही छोड़ दो ,कुछ सम
जब कोई बात समझ में ना आए तो वक्त हालात पर ही छोड़ दो ,कुछ सम
Shashi kala vyas
जागे हैं देर तक
जागे हैं देर तक
Sampada
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ताल-तलैया रिक्त हैं, जलद हीन आसमान,
ताल-तलैया रिक्त हैं, जलद हीन आसमान,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
माँ लक्ष्मी
माँ लक्ष्मी
Bodhisatva kastooriya
जिंदगी
जिंदगी
Dr.Priya Soni Khare
हम ही हैं पहचान हमारी जाति हैं लोधी.
हम ही हैं पहचान हमारी जाति हैं लोधी.
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
Neelam Sharma
चित्रगुप्त सत देव को,करिए सभी प्रणाम।
चित्रगुप्त सत देव को,करिए सभी प्रणाम।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Destiny
Destiny
Dhriti Mishra
तुम - दीपक नीलपदम्
तुम - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
उजाले को वही कीमत करेगा
उजाले को वही कीमत करेगा
पूर्वार्थ
बेटी
बेटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हल्लाबोल
हल्लाबोल
Shekhar Chandra Mitra
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
The_dk_poetry
अगर मुझे तड़पाना,
अगर मुझे तड़पाना,
Dr. Man Mohan Krishna
बेटी के जीवन की विडंबना
बेटी के जीवन की विडंबना
Rajni kapoor
जिस समाज में आप पैदा हुए उस समाज ने आपको कितनी स्वंत्रता दी
जिस समाज में आप पैदा हुए उस समाज ने आपको कितनी स्वंत्रता दी
Utkarsh Dubey “Kokil”
Loading...