Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Nov 2023 · 1 min read

तोड़ कर खुद को

तोड़ कर खुदको हमने जोड़ा है ।
अब बिखरने से ख़ौफ़ खाते हैं ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
5 Likes · 1 Comment · 192 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
कहीं ना कहीं कुछ टूटा है
कहीं ना कहीं कुछ टूटा है
goutam shaw
फर्ज मां -बाप के याद रखना सदा।
फर्ज मां -बाप के याद रखना सदा।
Namita Gupta
Rainbow on my window!
Rainbow on my window!
Rachana
******जय श्री खाटूश्याम जी की*******
******जय श्री खाटूश्याम जी की*******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
पहली दस्तक
पहली दस्तक
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
कमली हुई तेरे प्यार की
कमली हुई तेरे प्यार की
Swami Ganganiya
🙅पहचान🙅
🙅पहचान🙅
*Author प्रणय प्रभात*
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
Shutisha Rajput
सवर्ण
सवर्ण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रेम में कृष्ण का और कृष्ण से प्रेम का अपना अलग ही आनन्द है
प्रेम में कृष्ण का और कृष्ण से प्रेम का अपना अलग ही आनन्द है
Anand Kumar
गैर का होकर जिया
गैर का होकर जिया
Dr. Sunita Singh
आप अपनी नज़र से
आप अपनी नज़र से
Dr fauzia Naseem shad
बुंदेली दोहा गरे गौ (भाग-2)
बुंदेली दोहा गरे गौ (भाग-2)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"तन्हाई"
Dr. Kishan tandon kranti
क्यू ना वो खुदकी सुने?
क्यू ना वो खुदकी सुने?
Kanchan Alok Malu
*साम वेदना*
*साम वेदना*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिल को सिर्फ तेरी याद ही , क्यों आती है हरदम
दिल को सिर्फ तेरी याद ही , क्यों आती है हरदम
gurudeenverma198
मुझे ना पसंद है*
मुझे ना पसंद है*
Madhu Shah
* कुण्डलिया *
* कुण्डलिया *
surenderpal vaidya
*माता (कुंडलिया)*
*माता (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ढ़ांचा एक सा
ढ़ांचा एक सा
Pratibha Pandey
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
Anil Mishra Prahari
मेरे जीवन में सबसे
मेरे जीवन में सबसे
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
8--🌸और फिर 🌸
8--🌸और फिर 🌸
Mahima shukla
उदात्त जीवन / MUSAFIR BAITHA
उदात्त जीवन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
2579.पूर्णिका
2579.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शुभह उठता रात में सोता था, कम कमाता चेन से रहता था
शुभह उठता रात में सोता था, कम कमाता चेन से रहता था
Anil chobisa
आँगन की दीवारों से ( समीक्षा )
आँगन की दीवारों से ( समीक्षा )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...