Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jun 23, 2016 · 1 min read

तेवरी :– बेटी ससुराल में !!

तेवरी :–बेटी ससुराल मे !!

लालच लत हैवान है !
मोलभाव अपमान है , मत पड़ मायाजाल में !!

बाबुल ने घर सान से !
विदा किए अरमान से , रख उसको खुशहाल में !!

ममता भरे पहाड़ से !
पाला-पोसा लाड़ से , क्यों तडफे ससुराल में !!

1 Like · 427 Views
You may also like:
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
पहचान...
मनोज कर्ण
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
गीत
शेख़ जाफ़र खान
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता का पता
श्री रमण 'श्रीपद्'
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...