Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jun 2016 · 1 min read

तेवरी :– बेटी ससुराल में !!

तेवरी :–बेटी ससुराल मे !!

लालच लत हैवान है !
मोलभाव अपमान है , मत पड़ मायाजाल में !!

बाबुल ने घर सान से !
विदा किए अरमान से , रख उसको खुशहाल में !!

ममता भरे पहाड़ से !
पाला-पोसा लाड़ से , क्यों तडफे ससुराल में !!

Language: Hindi
2 Likes · 801 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
घूंटती नारी काल पर भारी ?
घूंटती नारी काल पर भारी ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*अज्ञानी की कलम से हमारे बड़े भाई जी प्रश्नोत्तर शायद पसंद आ
*अज्ञानी की कलम से हमारे बड़े भाई जी प्रश्नोत्तर शायद पसंद आ
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मेरी माटी मेरा देश....
मेरी माटी मेरा देश....
डॉ.सीमा अग्रवाल
हे कृतघ्न मानव!
हे कृतघ्न मानव!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*
*"ओ पथिक"*
Shashi kala vyas
राही
राही
RAKESH RAKESH
आपका समाज जितना ज्यादा होगा!
आपका समाज जितना ज्यादा होगा!
Suraj kushwaha
सच्ची दोस्ती -
सच्ची दोस्ती -
Raju Gajbhiye
मंज़िल मिली उसी को इसी इक लगन के साथ
मंज़िल मिली उसी को इसी इक लगन के साथ
अंसार एटवी
सोना बोलो है कहाँ, बोला मुझसे चोर।
सोना बोलो है कहाँ, बोला मुझसे चोर।
आर.एस. 'प्रीतम'
"दबंग झूठ"
Dr. Kishan tandon kranti
संकल्प
संकल्प
Shyam Sundar Subramanian
जिंदगी एक चादर है
जिंदगी एक चादर है
Ram Krishan Rastogi
दुआ को असर चाहिए।
दुआ को असर चाहिए।
Taj Mohammad
*माहेश्वर तिवारी जी से संपर्क*
*माहेश्वर तिवारी जी से संपर्क*
Ravi Prakash
राजनीति में शुचिता के, अटल एक पैगाम थे।
राजनीति में शुचिता के, अटल एक पैगाम थे।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"मन की संवेदनाएं: जीवन यात्रा का परिदृश्य"
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
2634.पूर्णिका
2634.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
I would never force anyone to choose me
I would never force anyone to choose me
पूर्वार्थ
सत्य कहाँ ?
सत्य कहाँ ?
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
आम्बेडकर ने पहली बार
आम्बेडकर ने पहली बार
Dr MusafiR BaithA
सताता है मुझको मेरा ही साया
सताता है मुझको मेरा ही साया
Madhuyanka Raj
झुक कर दोगे मान तो,
झुक कर दोगे मान तो,
sushil sarna
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"अपने ही इस देश में,
*प्रणय प्रभात*
आज का चयनित छंद
आज का चयनित छंद"रोला"अर्ध सम मात्रिक
rekha mohan
सफ़र ए जिंदगी
सफ़र ए जिंदगी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
श्रृंगार
श्रृंगार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...