Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2024 · 1 min read

तेरे बिन घर जैसे एक मकां बन जाता है

तेरे बिन घर जैसे एक मकां बन जाता है
तेरे बिन जैसे, वज़ूद मेरा ग़ुम हो जाता है
करता हूँ, गुफ़्तगू मैं जब भी तस्वीरों से तेरी
फ़क़त खामोशी का एक आशियाना रह जाता है

1 Like · 225 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
बढ़ रही नारी निरंतर
बढ़ रही नारी निरंतर
surenderpal vaidya
पिता की दौलत न हो तो हर गरीब वर्ग के
पिता की दौलत न हो तो हर गरीब वर्ग के
Ranjeet kumar patre
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
आज बुजुर्ग चुप हैं
आज बुजुर्ग चुप हैं
VINOD CHAUHAN
"आइडिया"
Dr. Kishan tandon kranti
शेष
शेष
Dr.Priya Soni Khare
थर्मामीटर / मुसाफ़िर बैठा
थर्मामीटर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
मुक्तक-विन्यास में एक तेवरी
मुक्तक-विन्यास में एक तेवरी
कवि रमेशराज
■
■ "हेल" में जाएं या "वेल" में। उनकी मर्ज़ी।।
*प्रणय प्रभात*
*हूँ कौन मैं*
*हूँ कौन मैं*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तलाशता हूँ उस
तलाशता हूँ उस "प्रणय यात्रा" के निशाँ
Atul "Krishn"
मेरे पांच रोला छंद
मेरे पांच रोला छंद
Sushila joshi
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
!..................!
!..................!
शेखर सिंह
" फेसबूक फ़्रेंड्स "
DrLakshman Jha Parimal
अतिथि देवो न भव
अतिथि देवो न भव
Satish Srijan
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
Augmented Reality: Unveiling its Transformative Prospects
Augmented Reality: Unveiling its Transformative Prospects
Shyam Sundar Subramanian
" दूरियां"
Pushpraj Anant
वो लोग....
वो लोग....
Sapna K S
भरी आँखे हमारी दर्द सारे कह रही हैं।
भरी आँखे हमारी दर्द सारे कह रही हैं।
शिल्पी सिंह बघेल
जश्न आजादी का ....!!!
जश्न आजादी का ....!!!
Kanchan Khanna
बचपन का मौसम
बचपन का मौसम
Meera Thakur
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
नाथ सोनांचली
जब दिल ही उससे जा लगा..!
जब दिल ही उससे जा लगा..!
SPK Sachin Lodhi
तुम्हारी खूब़सूरती क़ी दिन रात तारीफ क़रता हूं मैं....
तुम्हारी खूब़सूरती क़ी दिन रात तारीफ क़रता हूं मैं....
Swara Kumari arya
*शीर्षक - प्रेम ..एक सोच*
*शीर्षक - प्रेम ..एक सोच*
Neeraj Agarwal
दिन में रात
दिन में रात
MSW Sunil SainiCENA
Loading...