Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2023 · 3 min read

तेरे इश्क़ में

धारावाहिक भाग-१

तेरे इश्क़ में

“ओ हैलो !तुम्हें सुनाई दे रहा है ? हेल्लो मिस ,मैं तुमसे पूछ रहा हूँ! क्या तुम सच में वहाँ (ब्रिज) सुसाइड करने चढ़ी हो “?

“हाँ !मैं सुसाइड करने चढ़ी हूँ और सुसाइड करूँगी भी ,प्लीज मुझे रोको मत “।

“अरे जरा संभल कर ,तुम गिर जाओगी और अगर तुम इस ब्रिज से गिरी तो तुम्हारे बचने का कोई चांस नहीं रहेगा। बेचारे डॉक्टर भी कुछ नहीं कर पाएंगे सिवाय आई आम सोर्री कहने के ! इसलिए मेरी बात मानो और नीचे आ जाओ ”

“नहीं मुझे नहीं आना नीचे, मैंने कहा न मुझे सुसाइड करनी है । मुझे किसी से कोई बात नहीं करनी और प्लीज तुम अपनी बातों में मुझे फ़साओ नहीं मुझे सुसाइड करने दो “।

“क्या तुम्हें वाकई सुसाइड करना है?

“तुम पागल हो क्या ? इतनी देर से कह रही हूँ मुझे सुसाइड करनी है,मुझे सुसाइड करनी है और तुम हो की मजाक समझ रहे हो?

“ओ मिस ब्यूटी मैं ये इसलिए कह रहा हूँ क्योंकि तुम सुसाइड नहीं कर सकती। अगर तुम्हें वाकई सुसाइड करना होता तो तुम कर चुकी होती । तुम ये इसलिए नहीं कर पा रही हो क्योंकि तुम्हें मौत से डर लग रहा है।

तुम्हें शादी के जोड़े में देखकर इतना तो मैं समझ गया की तुम अपने शादी से भागकर आई हो। या मैं ये भी कह सकता हूँ की तुम्हारा हीरो टाइम पर एंट्री नहीं मारा बल्कि उसे कोई और हेरोहीन मिल गई। और वह बेचारा ये भी भूल गया की उसे आज किसी से शादी भी करनी थी। और जब तुम उसका इंतजार करते करते थक हार गई तो गुस्से में सुसाइड करने इस ब्रीज पर चढ़ गई । लेकिन अफसोस मौत से डर लगने के कारण सुसाइड भी नहीं कर पाई।

” तुम्हें क्या लगता है मुझे मौत से डर लगता है? और इसलिए मैं सुसाइड नहीं कर पाऊँगी । ठीक है तो अब मैं तुम्हें यहाँ से कूद कर दिखाऊंगी “।

” अरे रुको, तुम्हें क्या लगता है की सुसाइड करने पर सब ठीक हो जायेगा । तुम्हें शांति मिल जायेगी? नहीं ऐसा नहीं है! मरने के बाद भी हर रोज घुट घुट कर मरोगी। तुम्हारे इस शरीर से आत्मा तो निकल जायेगी लेकिन उसे! उसे शांति नहीं मिल पायेगी हर रोज भटकेगी तुम्हारी रूह , जिंदगी जीने को तरसोगी लेकिन तभी पछताने से कुछ न मिलेगा । मुझे भी पहले यही लगता थी की सुसाइड करने पर ,अपना अस्तित्व मिटा देने पर सुकून मिल जायेगी। लेकिन नहीं हर रोज इस रात के अंधेरे में भटकता हूँ, जिंदगी जीने को तरसता हूँ। पर अफसोस वापस अब इस दुनिया में आ नहीं सकता।

इस धारावाहिक में अहम भूमिका निभाने वाली लड़की जिसका नाम अपूर्वा है। और इस धारावाहिक में मेन किरदार निभाने वाला लड़का जिसका नाम करन है। किंतु मैं इन दोनों के चरित्र चित्रण करने से पहले ये बता देना चाहती हूँ की अभी जो बातें हो रही थी वह रंझ और अपूर्वा के बीच हो रही थी । रंझ इस धारावाहिक में करन का साइड रोल निभाने वाला है।

अपूर्वा का चरित्र चित्रण –

गोरा रंग, भुरी आँखे , गुलाब की पंखुड़ियों जैसे होंठ, उसपर पतली और लंबी सी नाक जो उसके मुख मंडल की शोभा बढ़ा रही थी। शरीर से बिल्कुल ही पतली और लंबाई औसत थी।

२० वर्षों से उसके परिवार में किसी बेटी का जन्म नहीं हुआ था !जिसके कारण वह अपने परिवार में सबकी लाडली थी । उसके दो सगे भाई थे जो उसे जान से ज्यादा प्यार करते थे। किंतु अपूर्वा बचपन से ही शांत और सुशील थी । और जैसे जैसे वह बड़ी होती गई उसमें और भी सुशीलता आने लगी। पढाई में भी समान्य थी। हर समय मौन रहा करती थी। न जाने कौन से राज दफन थे उसके सीने में जो उसे मौन रहने को मजबूर करती थी।

क्रमशः

गौरी तिवारी
भागलपुर बिहार

2 Likes · 286 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रात……!
रात……!
Sangeeta Beniwal
अभिनेता बनना है
अभिनेता बनना है
Jitendra kumar
मार्मिक फोटो
मार्मिक फोटो
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कलेक्टर से भेंट
कलेक्टर से भेंट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
3012.*पूर्णिका*
3012.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
छठ परब।
छठ परब।
Acharya Rama Nand Mandal
वो ऊनी मफलर
वो ऊनी मफलर
Atul "Krishn"
नास्तिक
नास्तिक
ओंकार मिश्र
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सामाजिक कविता: पाना क्या?
सामाजिक कविता: पाना क्या?
Rajesh Kumar Arjun
किताब-ए-जीस्त के पन्ने
किताब-ए-जीस्त के पन्ने
Neelam Sharma
गांव में छुट्टियां
गांव में छुट्टियां
Manu Vashistha
हथिनी की व्यथा
हथिनी की व्यथा
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
Slok maurya "umang"
धर्म खतरे में है.. का अर्थ
धर्म खतरे में है.. का अर्थ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वन  मोर  नचे  घन  शोर  करे, जब  चातक दादुर  गीत सुनावत।
वन मोर नचे घन शोर करे, जब चातक दादुर गीत सुनावत।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ज़ख्म दिल में छुपा रखा है
ज़ख्म दिल में छुपा रखा है
Surinder blackpen
बदल गयो सांवरिया
बदल गयो सांवरिया
Khaimsingh Saini
चंद सवालात हैं खुद से दिन-रात करता हूँ
चंद सवालात हैं खुद से दिन-रात करता हूँ
VINOD CHAUHAN
आज का दिन
आज का दिन
Punam Pande
ज़िंदगी चलती है
ज़िंदगी चलती है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आप में आपका
आप में आपका
Dr fauzia Naseem shad
फिसल गए खिलौने
फिसल गए खिलौने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
!..............!
!..............!
शेखर सिंह
माना अपनी पहुंच नहीं है
माना अपनी पहुंच नहीं है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
लघुकथा क्या है
लघुकथा क्या है
आचार्य ओम नीरव
ऐश ट्रे   ...
ऐश ट्रे ...
sushil sarna
धोखे का दर्द
धोखे का दर्द
Sanjay ' शून्य'
Loading...