Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 May 2024 · 1 min read

तू मिल जाए तो

पाने को फिर क्या रहा, तू मिल जाए तो
यही तो एक सपना है, तू मिल जाए तो
रहेगा ना शिकवा, फिर जिंदगी से कोई
ग़र किसी मोड़ पर , तू मिल जाए तो
खुदा भी ग़र हो नाराज, हो जाए मुझसे
इबादत करूँगा तेरी, तू मिल जाए तो
ढलने को आ गयी है,शामे जिंदगी भी
फिर भी है इन्तजार, तू मिल जाए तो
गुजरे कई मौसम और कई बरस भी
तरस गए” राणाजी “तू मिल जाए तो

©ठाकुर प्रतापसिंह राणा
सनावद (मध्यप्रदेश )

Language: Hindi
28 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खेलों का महत्व
खेलों का महत्व
विजय कुमार अग्रवाल
ताजा भोजन जो मिला, समझो है वरदान (कुंडलिया)
ताजा भोजन जो मिला, समझो है वरदान (कुंडलिया)
Ravi Prakash
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
Neeraj Agarwal
अपने लक्ष्य की ओर उठाया हर कदम,
अपने लक्ष्य की ओर उठाया हर कदम,
Dhriti Mishra
बुंदेली दोहा-सुड़ी (इल्ली)
बुंदेली दोहा-सुड़ी (इल्ली)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
काँटों ने हौले से चुभती बात कही
काँटों ने हौले से चुभती बात कही
Atul "Krishn"
"बदलते रसरंग"
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
शेखर सिंह
सुन लो बच्चों
सुन लो बच्चों
लक्ष्मी सिंह
राजू और माँ
राजू और माँ
SHAMA PARVEEN
भरत
भरत
Sanjay ' शून्य'
वो छोड़ गया था जो
वो छोड़ गया था जो
Shweta Soni
Go to bed smarter than when you woke up — Charlie Munger
Go to bed smarter than when you woke up — Charlie Munger
पूर्वार्थ
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
फर्क तो पड़ता है
फर्क तो पड़ता है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तक़दीर शून्य का जखीरा है
तक़दीर शून्य का जखीरा है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आधुनिक टंट्या कहूं या आधुनिक बिरसा कहूं,
आधुनिक टंट्या कहूं या आधुनिक बिरसा कहूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
शहनाई की सिसकियां
शहनाई की सिसकियां
Shekhar Chandra Mitra
उल्लासों के विश्वासों के,
उल्लासों के विश्वासों के,
*प्रणय प्रभात*
मां बाप
मां बाप
Mukesh Kumar Sonkar
हलमुखी छंद
हलमुखी छंद
Neelam Sharma
सलामी दें तिरंगे को हमें ये जान से प्यारा
सलामी दें तिरंगे को हमें ये जान से प्यारा
आर.एस. 'प्रीतम'
स्वयं के हित की भलाई
स्वयं के हित की भलाई
Paras Nath Jha
दीपावली
दीपावली
डॉ. शिव लहरी
**कब से बंद पड़ी है गली दुकान की**
**कब से बंद पड़ी है गली दुकान की**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एक अच्छे मुख्यमंत्री में क्या गुण होने चाहिए ?
एक अच्छे मुख्यमंत्री में क्या गुण होने चाहिए ?
Vandna thakur
जीत का सेहरा
जीत का सेहरा
Dr fauzia Naseem shad
हमें तो देखो उस अंधेरी रात का भी इंतजार होता है
हमें तो देखो उस अंधेरी रात का भी इंतजार होता है
VINOD CHAUHAN
याद आए दिन बचपन के
याद आए दिन बचपन के
Manu Vashistha
3518.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3518.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
Loading...