Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Aug 2022 · 1 min read

तू तो नहीं

माना मैं खराब हूं
तू तो नहीं
हो गई है रात
फिर अभी तक
तू आया क्यों नहीं

माना मैं बेवफा हूं
तू तो नहीं
दिल में दर्द है मेरे
तुझे कोई फिक्र
फिर है क्यों नहीं

माना मैं झूठा हूं
तू तो नहीं
मिलने का वादा
किया तुमने
फिर निभाया क्यों नहीं

तेरी नजरों में
पागल हूं मैं
तू तो नहीं
मेरी छोटी सी
नादानी फिर
क्यों तू समझा नहीं

इश्क में था मैं
तू तो नहीं
फिर क्यों आता था
मिलने मुझसे
बताता क्यों नहीं

याद करता हूं मैं
तू तो नहीं
फिर सुबह शाम
ये मेरी हिचकियां
जाती क्यों नहीं

तेरे प्यार में हूं मैं
तू तो नहीं
तेरी ये आंखें
इस बात की तस्दीक
करती क्यों नहीं।

Language: Hindi
11 Likes · 3 Comments · 898 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Santosh kumar Miri
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दीवारें ऊँचीं हुईं, आँगन पर वीरान ।
दीवारें ऊँचीं हुईं, आँगन पर वीरान ।
Arvind trivedi
ख्वाहिशों की ज़िंदगी है।
ख्वाहिशों की ज़िंदगी है।
Taj Mohammad
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
वनिता
वनिता
Satish Srijan
जब कोई हो पानी के बिन……….
जब कोई हो पानी के बिन……….
shabina. Naaz
तुम आये तो हमें इल्म रोशनी का हुआ
तुम आये तो हमें इल्म रोशनी का हुआ
sushil sarna
मेरे लिए
मेरे लिए
Shweta Soni
बना है राम का मंदिर, करो जयकार - अभिनंदन
बना है राम का मंदिर, करो जयकार - अभिनंदन
Dr Archana Gupta
गाँधी जी की अंगूठी (काव्य)
गाँधी जी की अंगूठी (काव्य)
Ravi Prakash
अच्छे बच्चे
अच्छे बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पाहन भी भगवान
पाहन भी भगवान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
*वो खफ़ा  हम  से इस कदर*
*वो खफ़ा हम से इस कदर*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
#सच_स्वीकार_करें.....
#सच_स्वीकार_करें.....
*प्रणय प्रभात*
प्यार कर हर इन्सां से
प्यार कर हर इन्सां से
Pushpa Tiwari
अब मैं
अब मैं
हिमांशु Kulshrestha
दृष्टिबाधित भले हूँ
दृष्टिबाधित भले हूँ
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
!! सुविचार !!
!! सुविचार !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
हज़ारों चाहने वाले निभाए एक मिल जाए
हज़ारों चाहने वाले निभाए एक मिल जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
*हुस्न से विदाई*
*हुस्न से विदाई*
Dushyant Kumar
तज द्वेष
तज द्वेष
Neelam Sharma
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो  एक  है  नारी
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो एक है नारी
Anil Mishra Prahari
2443.पूर्णिका
2443.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अनजान बनकर मिले थे,
अनजान बनकर मिले थे,
Jay Dewangan
Just in case no one has told you this today, I’m so proud of
Just in case no one has told you this today, I’m so proud of
पूर्वार्थ
सदैव खुश रहने की आदत
सदैव खुश रहने की आदत
Paras Nath Jha
रातों में नींद तो दिन में सपने देखे,
रातों में नींद तो दिन में सपने देखे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
'मन चंगा तो कठौती में गंगा' कहावत के बर्थ–रूट की एक पड़ताल / DR MUSAFIR BAITHA
'मन चंगा तो कठौती में गंगा' कहावत के बर्थ–रूट की एक पड़ताल / DR MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...