Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Oct 2023 · 1 min read

तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।

तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।
तुझ बिन जीवन निष्प्राण प्रिय।
नहीं ख़ौफ मुझे यह कहने में,
तू ही ‘नीलम’ जी जान प्रिय।
नीलम शर्मा ✍️

154 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धर्म-कर्म (भजन)
धर्म-कर्म (भजन)
Sandeep Pande
*दिलों से दिल मिलाने का, सुखद त्योहार है होली (हिंदी गजल/ गी
*दिलों से दिल मिलाने का, सुखद त्योहार है होली (हिंदी गजल/ गी
Ravi Prakash
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👰👸🙋👭🕊️🕊️
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👰👸🙋👭🕊️🕊️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
एहसास दे मुझे
एहसास दे मुझे
Dr fauzia Naseem shad
शाम सुहानी
शाम सुहानी
लक्ष्मी सिंह
सेंगोल और संसद
सेंगोल और संसद
Damini Narayan Singh
यह रंगीन मतलबी दुनियां
यह रंगीन मतलबी दुनियां
कार्तिक नितिन शर्मा
विधाता का लेख
विधाता का लेख
rubichetanshukla 781
हिंदी दिवस पर विशेष
हिंदी दिवस पर विशेष
Akash Yadav
दूरियां अब सिमटती सब जा रही है।
दूरियां अब सिमटती सब जा रही है।
surenderpal vaidya
#सनातन_सत्य
#सनातन_सत्य
*Author प्रणय प्रभात*
दीपावली
दीपावली
डॉ. शिव लहरी
बादल बरसे दो घड़ी, उमड़े भाव हजार।
बादल बरसे दो घड़ी, उमड़े भाव हजार।
Suryakant Dwivedi
मुझे  बखूबी याद है,
मुझे बखूबी याद है,
Sandeep Mishra
दरोगा तेरा पेट
दरोगा तेरा पेट
Satish Srijan
कृष्णा सोबती के उपन्यास 'समय सरगम' में बहुजन समाज के प्रति पूर्वग्रह : MUSAFIR BAITHA
कृष्णा सोबती के उपन्यास 'समय सरगम' में बहुजन समाज के प्रति पूर्वग्रह : MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
राजकुमारी कार्विका
राजकुमारी कार्विका
Anil chobisa
मन को समझाने
मन को समझाने
sushil sarna
इतना मत इठलाया कर इस जवानी पर
इतना मत इठलाया कर इस जवानी पर
Keshav kishor Kumar
यूनिवर्सल सिविल कोड
यूनिवर्सल सिविल कोड
Dr. Harvinder Singh Bakshi
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2831. *पूर्णिका*
2831. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुझे तुझसे महब्बत है, मगर मैं कह नहीं सकता
मुझे तुझसे महब्बत है, मगर मैं कह नहीं सकता
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बहुत नफा हुआ उसके जाने से मेरा।
बहुत नफा हुआ उसके जाने से मेरा।
शिव प्रताप लोधी
चाँद और इन्सान
चाँद और इन्सान
Kanchan Khanna
के जब तक दिल जवां होता नहीं है।
के जब तक दिल जवां होता नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
सृष्टि की अभिदृष्टि कैसी?
सृष्टि की अभिदृष्टि कैसी?
AJAY AMITABH SUMAN
"इतिहास गवाह है"
Dr. Kishan tandon kranti
'हक़' और हाकिम
'हक़' और हाकिम
आनन्द मिश्र
Loading...