Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Mar 2023 · 1 min read

तू इतनी खूबसूरत है…

सफर में जिंदगी के मैं बहुत नाकाम हो जाता
नशे में डूबकर मैं भी बहकती शाम हो जाता
तू इतनी खूबसूरत है कसम से क्या बताऊँ मैं
तुझे इग्नोर ना करता तो मैं बदनाम हो जाता

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 06/03/2023

1 Like · 398 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बस यूं ही
बस यूं ही
MSW Sunil SainiCENA
मैंने अपनी, खिडकी से,बाहर जो देखा वो खुदा था, उसकी इनायत है सबसे मिलना, मैं ही खुद उससे जुदा था.
मैंने अपनी, खिडकी से,बाहर जो देखा वो खुदा था, उसकी इनायत है सबसे मिलना, मैं ही खुद उससे जुदा था.
Mahender Singh
फिर दिल मेरा बेचैन न हो,
फिर दिल मेरा बेचैन न हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*सांच को आंच नहीं*
*सांच को आंच नहीं*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रमेशराज की एक तेवरी
रमेशराज की एक तेवरी
कवि रमेशराज
"एक उम्र के बाद"
Dr. Kishan tandon kranti
3344.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3344.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
నా గ్రామం
నా గ్రామం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
हुनर मौहब्बत के जिंदगी को सीखा गया कोई।
हुनर मौहब्बत के जिंदगी को सीखा गया कोई।
Phool gufran
वक्त थमा नहीं, तुम कैसे थम गई,
वक्त थमा नहीं, तुम कैसे थम गई,
लक्ष्मी सिंह
भीष्म के उत्तरायण
भीष्म के उत्तरायण
Shaily
आज की बेटियां
आज की बेटियां
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
नज़रें बयां करती हैं, लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
नज़रें बयां करती हैं, लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
Keshav kishor Kumar
वोट दिया किसी और को,
वोट दिया किसी और को,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आभा पंखी से बढ़ी ,
आभा पंखी से बढ़ी ,
Rashmi Sanjay
स्वयंसिद्धा
स्वयंसिद्धा
ऋचा पाठक पंत
सेर
सेर
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
Dr. Man Mohan Krishna
बावजूद टिमकती रोशनी, यूं ही नहीं अंधेरा करते हैं।
बावजूद टिमकती रोशनी, यूं ही नहीं अंधेरा करते हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
युवा मन❤️‍🔥🤵
युवा मन❤️‍🔥🤵
डॉ० रोहित कौशिक
Be careful having relationships with people with no emotiona
Be careful having relationships with people with no emotiona
पूर्वार्थ
पिता का यूं चले जाना,
पिता का यूं चले जाना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
■ तेवरी-
■ तेवरी-
*Author प्रणय प्रभात*
विनती
विनती
कविता झा ‘गीत’
*भारत माता की महिमा को, जी-भर गाते मोदी जी (हिंदी गजल)*
*भारत माता की महिमा को, जी-भर गाते मोदी जी (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
बेटियां / बेटे
बेटियां / बेटे
Mamta Singh Devaa
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
भ्रम
भ्रम
Shiva Awasthi
फितरत
फितरत
Dr fauzia Naseem shad
हे राम तुम्हारा अभिनंदन।
हे राम तुम्हारा अभिनंदन।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...