Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2024 · 1 min read

तूं मुझे एक वक्त बता दें….

तूं मुझे एक वक्त बता दें….
मैं ऐन वक्त पें बातें करूंगा
वादा रहा ये मेरा,तुझसे….
ना कम,ना ज्यादे करूंगा..

–Suku

57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उदात्त जीवन / MUSAFIR BAITHA
उदात्त जीवन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
चलो मैं आज अपने बारे में कुछ बताता हूं...
चलो मैं आज अपने बारे में कुछ बताता हूं...
Shubham Pandey (S P)
ना रहीम मानता हूँ मैं, ना ही राम मानता हूँ
ना रहीम मानता हूँ मैं, ना ही राम मानता हूँ
VINOD CHAUHAN
अनिल
अनिल "आदर्श "
अनिल "आदर्श"
गैरों से कोई नाराजगी नहीं
गैरों से कोई नाराजगी नहीं
Harminder Kaur
बस, इतना सा करना...गौर से देखते रहना
बस, इतना सा करना...गौर से देखते रहना
Teena Godhia
कया बताएं 'गालिब'
कया बताएं 'गालिब'
Mr.Aksharjeet
संबंध क्या
संबंध क्या
Shweta Soni
ज़िंदगी
ज़िंदगी
नन्दलाल सुथार "राही"
उतर गए निगाह से वे लोग भी पुराने
उतर गए निगाह से वे लोग भी पुराने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सदैव खुश रहने की आदत
सदैव खुश रहने की आदत
Paras Nath Jha
*शिवरात्रि*
*शिवरात्रि*
Dr. Priya Gupta
यह प्यार झूठा है
यह प्यार झूठा है
gurudeenverma198
क्षणिका
क्षणिका
sushil sarna
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
अलग अलग से बोल
अलग अलग से बोल
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मेरी एक बार साहेब को मौत के कुएं में मोटरसाइकिल
मेरी एक बार साहेब को मौत के कुएं में मोटरसाइकिल
शेखर सिंह
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मिसाल
मिसाल
Kanchan Khanna
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*जीता है प्यारा कमल, पुनः तीसरी बार (कुंडलिया)*
*जीता है प्यारा कमल, पुनः तीसरी बार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अधूरा प्रयास
अधूरा प्रयास
Sûrëkhâ
ମର୍ଯ୍ୟାଦା ପୁରୁଷୋତ୍ତମ ଶ୍ରୀରାମ
ମର୍ଯ୍ୟାଦା ପୁରୁଷୋତ୍ତମ ଶ୍ରୀରାମ
Bidyadhar Mantry
"तेरे बारे में"
Dr. Kishan tandon kranti
पेड़ पौधों के बिना ताजी हवा ढूंढेंगे लोग।
पेड़ पौधों के बिना ताजी हवा ढूंढेंगे लोग।
सत्य कुमार प्रेमी
मैं हूं आदिवासी
मैं हूं आदिवासी
नेताम आर सी
प्रेम हैं अनन्त उनमें
प्रेम हैं अनन्त उनमें
The_dk_poetry
3108.*पूर्णिका*
3108.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हर कदम प्यासा रहा...,
हर कदम प्यासा रहा...,
Priya princess panwar
ज़िंदगी इतनी मुश्किल भी नहीं
ज़िंदगी इतनी मुश्किल भी नहीं
Dheerja Sharma
Loading...