Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2016 · 1 min read

तुलसी

भीनी सी महका करती है तुलसी घर के आँगन की
शुभ कर सुख ही सुख भरती है तुलसी घर के आँगन की
मिले शांति मन को भी इसका पूजन अर्चन करने से
तन के रोगों को हरती है तुलसी घर के आँगन की

डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
2 Comments · 579 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
मै ना सुनूंगी
मै ना सुनूंगी
भरत कुमार सोलंकी
कत्ल खुलेआम
कत्ल खुलेआम
Diwakar Mahto
गलती अगर किए नहीं,
गलती अगर किए नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विरह
विरह
नवीन जोशी 'नवल'
हर तरफ भीड़ है , भीड़ ही भीड़ है ,
हर तरफ भीड़ है , भीड़ ही भीड़ है ,
Neelofar Khan
"वक्त आ गया है"
Dr. Kishan tandon kranti
कलम लिख दे।
कलम लिख दे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
काजल
काजल
Neeraj Agarwal
पुष्प की व्यथा
पुष्प की व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
आचार्य वृन्दान्त
थोड़ा पैसा कमाने के लिए दूर क्या निकले पास वाले दूर हो गये l
थोड़ा पैसा कमाने के लिए दूर क्या निकले पास वाले दूर हो गये l
Ranjeet kumar patre
रोना ना तुम।
रोना ना तुम।
Taj Mohammad
😊जाँच को आंच नहीं😊
😊जाँच को आंच नहीं😊
*प्रणय प्रभात*
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बकरी
बकरी
ganjal juganoo
जिंदगी को बड़े फक्र से जी लिया।
जिंदगी को बड़े फक्र से जी लिया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
हमको बच्चा रहने दो।
हमको बच्चा रहने दो।
Manju Singh
" अधरों पर मधु बोल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
स्कूल जाना है
स्कूल जाना है
SHAMA PARVEEN
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
कवि रमेशराज
रिश्ते चाहे जो भी हो।
रिश्ते चाहे जो भी हो।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
शरद पूर्णिमा का चांद
शरद पूर्णिमा का चांद
Mukesh Kumar Sonkar
दिल की गुज़ारिश
दिल की गुज़ारिश
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ग़ज़ल/नज़्म - न जाने किस क़दर भरी थी जीने की आरज़ू उसमें
ग़ज़ल/नज़्म - न जाने किस क़दर भरी थी जीने की आरज़ू उसमें
अनिल कुमार
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
कितने बेबस
कितने बेबस
Dr fauzia Naseem shad
2742. *पूर्णिका*
2742. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इश्क़ चाहत की लहरों का सफ़र है,
इश्क़ चाहत की लहरों का सफ़र है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...