Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Aug 2022 · 1 min read

सिर्फ तुम

सिर्फ तुम

एक प्यारा एहसास हो, मीठा दर्द ‘तुम’ हो,
इबादत हो, हर मर्ज की दवा भी ‘सिर्फ तुम’ हो,
घनघोर घटाओं में बारिश की बूंद ‘तुम’ हो,
इस जन्म नहीं, अगले जन्म नहीं, हर जन्म की आस भी ‘सिर्फ तुम’ हो।।

सीमा टेलर ‘तू है ना’ (छिम़पीयान‌‌‌ लम्बोर)

8 Likes · 13 Comments · 372 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*तरबूज (बाल कविता)*
*तरबूज (बाल कविता)*
Ravi Prakash
“It is not for nothing that our age cries out for the redeem
“It is not for nothing that our age cries out for the redeem
पूर्वार्थ
अमीर-ग़रीब वर्ग दो,
अमीर-ग़रीब वर्ग दो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुम बिन रहें तो कैसे यहां लौट आओ तुम।
तुम बिन रहें तो कैसे यहां लौट आओ तुम।
सत्य कुमार प्रेमी
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
Damini Narayan Singh
!! युवा !!
!! युवा !!
Akash Yadav
मंत्र: श्वेते वृषे समारुढा, श्वेतांबरा शुचि:। महागौरी शुभ दध
मंत्र: श्वेते वृषे समारुढा, श्वेतांबरा शुचि:। महागौरी शुभ दध
Harminder Kaur
कभी ना होना तू निराश, कभी ना होना तू उदास
कभी ना होना तू निराश, कभी ना होना तू उदास
gurudeenverma198
If you do things the same way you've always done them, you'l
If you do things the same way you've always done them, you'l
Vipin Singh
बदलते रिश्ते
बदलते रिश्ते
Sanjay ' शून्य'
दौलत
दौलत
Neeraj Agarwal
इतनी बिखर जाती है,
इतनी बिखर जाती है,
शेखर सिंह
🙅कड़वा सच🙅
🙅कड़वा सच🙅
*प्रणय प्रभात*
कितने हीं ज़ख्म हमें छिपाने होते हैं,
कितने हीं ज़ख्म हमें छिपाने होते हैं,
Shweta Soni
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*
*"ओ पथिक"*
Shashi kala vyas
I am Yash Mehra
I am Yash Mehra
Yash mehra
आजकल अकेले में बैठकर रोना पड़ रहा है
आजकल अकेले में बैठकर रोना पड़ रहा है
Keshav kishor Kumar
कमीजें
कमीजें
Madhavi Srivastava
3-फ़क़त है सियासत हक़ीक़त नहीं है
3-फ़क़त है सियासत हक़ीक़त नहीं है
Ajay Kumar Vimal
दोस्ती
दोस्ती
Surya Barman
.
.
Shwet Kumar Sinha
काव्य का आस्वादन
काव्य का आस्वादन
कवि रमेशराज
ক্ষেত্রীয়তা ,জাতিবাদ
ক্ষেত্রীয়তা ,জাতিবাদ
DrLakshman Jha Parimal
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
Ravi singh bharati
पिछले 4 5 सालों से कुछ चीजें बिना बताए आ रही है
पिछले 4 5 सालों से कुछ चीजें बिना बताए आ रही है
Paras Mishra
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
Rj Anand Prajapati
कितने आसान थे सम्झने में
कितने आसान थे सम्झने में
Dr fauzia Naseem shad
फिर से अपने चमन में ख़ुशी चाहिए
फिर से अपने चमन में ख़ुशी चाहिए
Monika Arora
पाँव में खनकी चाँदी हो जैसे - संदीप ठाकुर
पाँव में खनकी चाँदी हो जैसे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
Loading...