Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Sep 2022 · 1 min read

तुम वही ख़्वाब मेरी आंखों का

जिसकी ताबीर कुछ नहीं होगी ।
तुम वही ख़्वाब, मेरी आंखों का ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
9 Likes · 2 Comments · 130 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
Learn self-compassion
Learn self-compassion
पूर्वार्थ
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जैसी सोच,वैसा फल
जैसी सोच,वैसा फल
Paras Nath Jha
हम जानते हैं - दीपक नीलपदम्
हम जानते हैं - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ऋतुराज वसंत (कुंडलिया)*
ऋतुराज वसंत (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
2893.*पूर्णिका*
2893.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कविता के अ-भाव से उपजी एक कविता / MUSAFIR BAITHA
कविता के अ-भाव से उपजी एक कविता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
दिल
दिल
Dr Archana Gupta
चांदनी न मानती।
चांदनी न मानती।
Kuldeep mishra (KD)
*यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या
*यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या
Shashi kala vyas
गजब है उनकी सादगी
गजब है उनकी सादगी
sushil sarna
शिवरात्रि
शिवरात्रि
ऋचा पाठक पंत
बाढ़
बाढ़
Dr.Pratibha Prakash
माँ
माँ
shambhavi Mishra
खालीपन
खालीपन
करन ''केसरा''
सृजन के जन्मदिन पर
सृजन के जन्मदिन पर
Satish Srijan
जीवन की सबसे बड़ी त्रासदी
जीवन की सबसे बड़ी त्रासदी
ruby kumari
I am sun
I am sun
Rajan Sharma
**** फागुन के दिन आ गईल ****
**** फागुन के दिन आ गईल ****
Chunnu Lal Gupta
"ऐ जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
नाक पर दोहे
नाक पर दोहे
Subhash Singhai
केतकी का अंश
केतकी का अंश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
काश! तुम हम और हम हों जाते तेरे !
काश! तुम हम और हम हों जाते तेरे !
The_dk_poetry
होली और रंग
होली और रंग
Arti Bhadauria
■ शुभकामनाएं...
■ शुभकामनाएं...
*Author प्रणय प्रभात*
कभी धूप तो कभी बदली नज़र आयी,
कभी धूप तो कभी बदली नज़र आयी,
Rajesh Kumar Arjun
बंधन यह अनुराग का
बंधन यह अनुराग का
Om Prakash Nautiyal
Uljhane bahut h , jamane se thak jane ki,
Uljhane bahut h , jamane se thak jane ki,
Sakshi Tripathi
💐प्रेम कौतुक-322💐
💐प्रेम कौतुक-322💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
Ashwini sharma
Loading...