Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

तुम अगर कविता बनो तो, गीत मैं बन जाऊंगा।

तुम अगर कविता बनो तो, गीत मैं बन जाऊंगा।
तुम अगर सरगम बनो, संगीत मैं बन जाऊंगा ।।
मैं हृदय का राग बनकर, गुनगुनाऊँगा तुम्हें ।
तुम मेरे मन में बहो तो, मीत मैं बन जाऊंगा ।।
-जगदीश शर्मा सहज

101 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
23/167.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/167.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लडकियाँ
लडकियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
* भैया दूज *
* भैया दूज *
surenderpal vaidya
"संविधान"
Slok maurya "umang"
बारिश की बूंदों ने।
बारिश की बूंदों ने।
Taj Mohammad
विचार
विचार
Jyoti Khari
*
*"माँ कात्यायनी'*
Shashi kala vyas
आलिंगन शहद से भी अधिक मधुर और चुंबन चाय से भी ज्यादा मीठा हो
आलिंगन शहद से भी अधिक मधुर और चुंबन चाय से भी ज्यादा मीठा हो
Aman Kumar Holy
रौशनी अकूत अंदर,
रौशनी अकूत अंदर,
Satish Srijan
एतबार इस जमाने में अब आसान नहीं रहा,
एतबार इस जमाने में अब आसान नहीं रहा,
manjula chauhan
सावन मंजूषा
सावन मंजूषा
Arti Bhadauria
जख्म हरे सब हो गए,
जख्म हरे सब हो गए,
sushil sarna
सूनी बगिया हुई विरान ?
सूनी बगिया हुई विरान ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सुहावना समय
सुहावना समय
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
नाम इंसानियत का
नाम इंसानियत का
Dr fauzia Naseem shad
मंदिर बनगो रे
मंदिर बनगो रे
Sandeep Pande
बम भोले।
बम भोले।
Anil Mishra Prahari
चाँद से मुलाकात
चाँद से मुलाकात
Kanchan Khanna
*ठहाका मारकर हँसने-हँसाने की जरूरत है【मुक्तक】*
*ठहाका मारकर हँसने-हँसाने की जरूरत है【मुक्तक】*
Ravi Prakash
राम संस्कार हैं, राम संस्कृति हैं, राम सदाचार की प्रतिमूर्ति हैं...
राम संस्कार हैं, राम संस्कृति हैं, राम सदाचार की प्रतिमूर्ति हैं...
Anand Kumar
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
"बचपन"
Tanveer Chouhan
अंधेरे के आने का खौफ,
अंधेरे के आने का खौफ,
Buddha Prakash
एक गजल
एक गजल
umesh mehra
फ़िलिस्तीन-इज़राइल संघर्ष: इसकी वर्तमान स्थिति और भविष्य में शांति और संप्रभुता पर वैश्विक प्रभाव
फ़िलिस्तीन-इज़राइल संघर्ष: इसकी वर्तमान स्थिति और भविष्य में शांति और संप्रभुता पर वैश्विक प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
"सूनी मांग" पार्ट-2
Radhakishan R. Mundhra
"You are still here, despite it all. You are still fighting
पूर्वार्थ
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
The_dk_poetry
मौन की सरहद
मौन की सरहद
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...