Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2023 · 1 min read

तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,

तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
तुम भिगाओ जो सावन सी, मैं उम्र भर भीग लूँगा,
मैं थोड़ा कच्चा हूँ, प्यार का विद्यार्थी ठहरा,
तुम्हारा साथ पा जाऊँ, तो सारी दुनिया जीत लूँगा।
सफर लंबा है थोड़ा, बात करते रहना जरूरी है,
मेरी सांसे है तुमसे, चलते रहने को मिलना जरूरी है,
मुरादें इतनी थी कि मांगते चौखट घिस देता मैं,
खुदा तुमको ही दे दे बस, बाकी गिरवी दे दूंगा।
क्या बचपन क्या जवानी क्या बुढापा हो,
अगर तुम ही नहीं होगे तो जीने का मज़ा क्या हो,
जानता हूँ नसीब अपना ‘जरा कुछ’ ही भरा लाया,
तुम्हारा ‘कुछ’ जो जुड़ जाए तो बाकी सब सृजित लूँगा।।

139 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
डॉ. दीपक मेवाती
*देश के  नेता खूठ  बोलते  फिर क्यों अपने लगते हैँ*
*देश के नेता खूठ बोलते फिर क्यों अपने लगते हैँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कर रहा हम्मास नरसंहार देखो।
कर रहा हम्मास नरसंहार देखो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
इश्क- इबादत
इश्क- इबादत
Sandeep Pande
Orange 🍊 cat
Orange 🍊 cat
Otteri Selvakumar
फितरत कभी नहीं बदलती
फितरत कभी नहीं बदलती
Madhavi Srivastava
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
Shakil Alam
किसी को नीचा दिखाना , किसी पर हावी होना ,  किसी को नुकसान पह
किसी को नीचा दिखाना , किसी पर हावी होना , किसी को नुकसान पह
Seema Verma
सांच कह्यां सुख होयस्यी,सांच समद को सीप।
सांच कह्यां सुख होयस्यी,सांच समद को सीप।
विमला महरिया मौज
चांद-तारे तोड के ला दूं मैं
चांद-तारे तोड के ला दूं मैं
Swami Ganganiya
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
सत्य कुमार प्रेमी
बदरा बरसे
बदरा बरसे
Dr. Kishan tandon kranti
आज के समय में शादियां सिर्फ एक दिखावा बन गई हैं। लोग शादी को
आज के समय में शादियां सिर्फ एक दिखावा बन गई हैं। लोग शादी को
पूर्वार्थ
तेरा एहसास
तेरा एहसास
Dr fauzia Naseem shad
बार बार दिल तोड़ा तुमने , फिर भी है अपनाया हमने
बार बार दिल तोड़ा तुमने , फिर भी है अपनाया हमने
Dr Archana Gupta
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अपनी शान के लिए माँ-बाप, बच्चों से ऐसा क्यों करते हैं
अपनी शान के लिए माँ-बाप, बच्चों से ऐसा क्यों करते हैं
gurudeenverma198
स्वर्गीय लक्ष्मी नारायण पांडेय निर्झर की पुस्तक 'सुरसरि गंगे
स्वर्गीय लक्ष्मी नारायण पांडेय निर्झर की पुस्तक 'सुरसरि गंगे
Ravi Prakash
बड़े दिलवाले
बड़े दिलवाले
Sanjay ' शून्य'
मोहि मन भावै, स्नेह की बोली,
मोहि मन भावै, स्नेह की बोली,
राकेश चौरसिया
हमेशा..!!
हमेशा..!!
'अशांत' शेखर
जल खारा सागर का
जल खारा सागर का
Dr Nisha nandini Bhartiya
फिर दिल मेरा बेचैन न हो,
फिर दिल मेरा बेचैन न हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*मतदान*
*मतदान*
Shashi kala vyas
मत गुजरा करो शहर की पगडंडियों से बेखौफ
मत गुजरा करो शहर की पगडंडियों से बेखौफ
Damini Narayan Singh
सावन आया
सावन आया
Neeraj Agarwal
■ आज का दोहा...
■ आज का दोहा...
*Author प्रणय प्रभात*
शिलालेख पर लिख दिए, हमने भी कुछ नाम।
शिलालेख पर लिख दिए, हमने भी कुछ नाम।
Suryakant Dwivedi
वक़्त
वक़्त
विजय कुमार अग्रवाल
2843.*पूर्णिका*
2843.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...