Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Oct 2022 · 1 min read

तुम्हारे रुख़सार यूँ दमकते

ग़ज़ल
तुम्हारे रुख़सार यूँ दमकते
गुलों पे आया शबाब जैसे
लबों पे सुर्ख़ी यूँ लग रही है
खिला हो ताज़ा गुलाब जैसे

इन्हें न समझो कोई शराबी,
नज़र मिली तो बहक गये है
तुम्हारी आँखें हैं जाम कोई,
भरी हो इनमें शराब जैसे

फ़ज़ा में सरगम घुली हुई है,
तुम्हारी बातों में है तरन्नुम
खनक रही है तुम्हारी पायल
बजा हो कोई रबाब जैसे

तुम्हारा एहसास पास दिल के,
मैं यूँ तसव्वुर में खो गया हूँ
उभरता नज़रों में अक्स ऐसे,
कि सहरा में हो सराब जैसे

बदलते रहते हैं करवटें हम
‘अनीस’ कैसे कटेंगी रातें
बिछड़ के हम जी रहे हैं ऐसे
मिला हमें हो अज़ाब जैसे
– अनीस शाह ‘अनीस ‘

Language: Hindi
2 Likes · 149 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुब्बारा
गुब्बारा
लक्ष्मी सिंह
कड़ियों की लड़ी धीरे-धीरे बिखरने लगती है
कड़ियों की लड़ी धीरे-धीरे बिखरने लगती है
DrLakshman Jha Parimal
शहीद दिवस
शहीद दिवस
Ram Krishan Rastogi
बाल कविता: मुन्ने का खिलौना
बाल कविता: मुन्ने का खिलौना
Rajesh Kumar Arjun
আগামীকালের স্ত্রী
আগামীকালের স্ত্রী
Otteri Selvakumar
स्वभाव
स्वभाव
Sanjay ' शून्य'
, गुज़रा इक ज़माना
, गुज़रा इक ज़माना
Surinder blackpen
*अजब है उसकी माया*
*अजब है उसकी माया*
Poonam Matia
2469.पूर्णिका
2469.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अपने
अपने
Shyam Sundar Subramanian
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
Slok maurya "umang"
कुछ इस लिए भी आज वो मुझ पर बरस पड़ा
कुछ इस लिए भी आज वो मुझ पर बरस पड़ा
Aadarsh Dubey
पुस्तक समीक्षा- धूप के कतरे (ग़ज़ल संग्रह डॉ घनश्याम परिश्रमी नेपाल)
पुस्तक समीक्षा- धूप के कतरे (ग़ज़ल संग्रह डॉ घनश्याम परिश्रमी नेपाल)
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
कवि दीपक बवेजा
!!! सदा रखें मन प्रसन्न !!!
!!! सदा रखें मन प्रसन्न !!!
जगदीश लववंशी
*राम-अयोध्या-सरयू का जल, भारत की पहचान हैं (गीत)*
*राम-अयोध्या-सरयू का जल, भारत की पहचान हैं (गीत)*
Ravi Prakash
तुम रूबरू भी
तुम रूबरू भी
हिमांशु Kulshrestha
रमेशराज के दो लोकगीत –
रमेशराज के दो लोकगीत –
कवि रमेशराज
गिनती
गिनती
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आई दिवाली कोरोना में
आई दिवाली कोरोना में
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सॉप और इंसान
सॉप और इंसान
Prakash Chandra
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
■क्षणिका■
■क्षणिका■
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-298💐
💐प्रेम कौतुक-298💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*ये रिश्ते ,रिश्ते न रहे इम्तहान हो गए हैं*
*ये रिश्ते ,रिश्ते न रहे इम्तहान हो गए हैं*
Shashi kala vyas
जीवन एक मकान किराए को,
जीवन एक मकान किराए को,
Bodhisatva kastooriya
तेरे सहारे ही जीवन बिता लुंगा
तेरे सहारे ही जीवन बिता लुंगा
Keshav kishor Kumar
युद्ध घोष
युद्ध घोष
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मां की दूध पीये हो तुम भी, तो लगा दो अपने औलादों को घाटी पर।
मां की दूध पीये हो तुम भी, तो लगा दो अपने औलादों को घाटी पर।
Anand Kumar
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
ruby kumari
Loading...